China has potential to try to sabotage rules-based order: America
File

बीजिंग. चीन ने गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर किए गए क्रूर हमले के बाद भारत में चीनी उत्पादों और निवेश के बहिष्कार के आह्वान पर सधी हुई प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शुक्रवार को कहा कि वह नई दिल्ली के साथ अपने संबंधों को महत्व देता है और दोनों देश स्थिति को सामान्य बनाने के लिए बातचीत कर रहे हैं। बहिष्कार के आह्वान और बढ़ती भारत-विरोधी भावना के कारण चीन में विशेष रूप से इसकी दूरसंचार कंपनियों जैसे कि हुआवेई, शियोमी और ओप्पो आदि में बेचैनी हो रही है, जिन्होंने भारतीय बाजार में बड़ी सेंध लगाई।

भारतीय बाजार चीन के बाद दुनिया में मोबाइल फोन का दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। चीन भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार का सबसे बड़ा लाभार्थी है। चीनी उत्पादों और निवेश का बहिष्कार करने के लिए भारत में बढ़ते आह्वानों के बारे में पूछे जाने पर, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि संकट की जिम्मेदारी भारत की है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह दोहराना चाहूंगा कि गलवान घाटी में गंभीर स्थिति के बारे में, सही और गलत बहुत स्पष्ट है और पूरी जिम्मेदारी भारतीय पक्ष की है।” बुधवार को, चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से बात की और दोनों पक्षों ने जितनी जल्दी हो सके, तनाव कम करने पर सहमति व्यक्त की । बातचीत के दौरान, जयशंकर ने गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़पों पर कड़े शब्दों में भारत का विरोध जताया और कहा कि अप्रत्याशित घटनाक्रम का द्विपक्षीय संबंधों पर ‘‘गंभीर प्रभाव ”पड़ेगा।(एजेंसी)