Imran Khan government succumbs to successive demonstrations in Pakistan, announces proposal to expel French ambassador
File

    नयी दिल्ली. एक बड़ी खबर के अनुसार पाकिस्तान (Pakistan) अब भी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की ग्रे लिस्ट (Grey List) में बरकरार रहेगा। गौरतलब है कि पाक की ओर से आतंकियों और आतंकी संगठनों को लगातार पनाह दिए जाने की सटीक ख़बरों के मध्य यह फैसला लिया गया है।

    बताया जा रहा है कि FATF के एक्शन प्लान के सभी 27 मापदंडों में से 3 को पूरा करने में पाक बुरी तरह से नाकाम रहा। बीते गुरूवार को FATF की बैठक में फैसला हुआ कि पाकिस्तान को फिलहाल ग्रे लिस्ट में ही रखा जाये। विदित हो कि खुद पाकिस्तान भी FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर निकलने की कोशिश में लंबे समय से कोशिश कर रहा है लेकिन कामयाबी से कोसो दूर है। बताया गया है कि पाक निर्धारित 27 मापदंडों में से 3 अहम बिंदुओं पर खरा नहीं उतर सका है। 

    क्या कहता है FATF :

    इस अहम् मुद्दे पर FATF प्रमुख मार्कस प्लीयर ने बताया कि, पाकिस्तान अभी हमारी सीधी निगरानी में रहेगा। इस देश में टेरर फाइनेंसिंग को लेकर अभी भी कई अनेक और गंभीर खामियां हैं। वैसे तो खुद  पाकिस्तान ने कई जरुरी कदम इसमें से बहार निकलने के लिए उठाये हैं। लेकिन तय 27 जरुरी बिन्दुओं में से 3 महत्वपूर्ण बिंदु उसके अभी भी शेष हैं।

    आखिरी बार 6 मापदंडों पर खरा नहीं उतरा था पाक :

    गौरतलब है कि पिछले साल 2020 के अक्टूबर में FATF की बैठक में भी पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में ही तलब किया गया था। उस समय FATF प्लेनरी में तुर्की ने प्रस्ताव भी रखा था कि 27 जरुरी मापदंडों में से शेष 6 मापदंडों को पूरा करने के लिए उसका इंतजार करने की बजाए सदस्यों को पाकिस्तान के अच्छे काम पर भी एक बार जरुर सोचना चाहिए। तुर्की ने यह भी कहा गया कि एक FATF ऑन-साइट टीम को अपने जरुरी मूल्यांकन को मूर्त रूप देने के लिए पाकिस्तान का एक अहम दौरा जरुर करना चाहिए। लेकिन तुर्की के यह विचार भी पाक को नापाक होने से नहीं बचा सके और वह इस बार 3 मापदंडों पर खरा नहीं उतर सका है। 

    बता दें कि FATF ने बीते गुरूवार को पाकिस्तान द्वारा संपूर्ण कार्ययोजना पर की गई उसकी महत्वपूर्ण प्रगति पर भी एक चर्चा की। लेकिन पाकिस्तान ने तय 27 में से 24 मापदंडों पर तो खरा उतरा। लेकिन तब तक उसकी ओर से कार्य योजना पर अमल करने की समयसीमा भी समाप्त हो चुकी थी। हालाँकि FATF ने पकिस्तान से कहा है कि वह आगामी एजून 2021 से पहले सभी जरुरी मापदंडों को एक बार फिर पूरा कर ले पूरा कर ले।

    आतंकी संगठनों को पोषित करता है पाक: 

    गौरतलब है कि आज ही के दिन बीते 26 फरवरी 2020 को भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने बालाकोट (Balakot) में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के सभी ठिकानों को पूरी तरह से तबाह कर दिया था। यह वही आतंकी संगठन है जो कि पकिस्तान द्वारा पोषित किया जा रहा था।