Pakistan invites Indian Sikhs on 551st birth anniversary of Guru Nanak

इस्लामाबाद: सिख (Sikh) धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव (Guru Nanak Dev) की 551वीं जयंती पर पाकिस्तान (Pakistan) ने भारतीय (Indian) सिखों को आमंत्रित किया है। यह जानकारी सोमवार को एक अधिकारी ने दी। ननकाना साहिब में 27 नवंबर से तीन दिनों के उत्सव गुरु नानक गुरुपर्व की शुरुआत होगी।

पाकिस्तान के पंजाब (Punjab) प्रांत में गुरु नानक के जन्म स्थल ‘गुरुद्वारा जन्मस्थान ननकाना साहिब’ पर उनकी जयंती के अवसर पर प्रति वर्ष भारत एवं दुनिया के विभिन्न स्थानों से लाखों की संख्या में श्रद्धालु इकट्ठा होते हैं। बहरहाल, कोविड-19 (Covid-19) महामारी से इस वर्ष यह उत्सव प्रभावित हो सकता है। ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने खबर दी कि भारतीय श्रद्धालुओं को देश में प्रवेश के लिए पांच दिवसीय वीजा की पेशकश की जाएगी।

उन्हें कोविड-19 की अनिवार्य नेगेटिव रिपोर्ट पर ही प्रवेश दिया जाएगा। परित्यक्त वक्फ संपत्ति बोर्ड और पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (पीएसजीपीसी) ने भी उत्सव में हिस्सा लेने के लिए विभिन्न सिख सोसायटी को निमंत्रण भेजा है। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए भारत के सिखों को देश में सीमित समय के लिए ही ठहरने की अनुमति दी जाएगी।

विशेष पांच दिवसीय ननकाना साहिब वीजा दो दिसम्बर को समाप्त हो जाएगा। देश के वक्फ बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘गुरु नानक देव की जयंती पर हिस्सा लेने के लिए आने वाले सभी श्रद्धालुओं को ठहरने की पूरी अवधि के दौरान कोविड-19 की मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करना होगा और कोविड-19 की अनिवार्य नेगेटिव जांच रिपोर्ट दिखाने के बाद भी उन्हें इनका पालन करना होगा।”

पीएसजीपीसी के प्रमुख सरदार सतवंत सिंह के मुताबिक बंद सीमाओं और भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए पाकिस्तान में उनके ठहरने के कार्यक्रम को संशोधित किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय सिख श्रद्धालुओं की संख्या पर कोई नयी पाबंदियां नहीं लगाई जाएंगी।” पाकिस्तान-भारत द्विपक्षीय समझौते के मुताबिक गुरुपर्व के लिए देश में तीन हजार भारतीय सिख श्रद्धालुओं के प्रवेश की अनुमति होगी।