Presidential debate: Trump-Biden organizes separate townhall

ग्रीनविले (अमेरिका): अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) और डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन (Joe Biden) ने दूसरी राष्ट्रपति बहस रद्द होने के मद्देनजर एक ही समय पर अलग-अलग टाउन हॉल (Town Hall) का आयोजन किया जिनका प्रसारण टीवी पर किया गया। प्रमुख टीवी पत्रकारों द्वारा संचालित इस सत्र में उन्होंने पूर्व चयनित व्यक्तियों के सवालों का जवाब दिया।

ट्रंप के टाउन हॉल की मेजबानी जहां फ्लोरिडा के मियामी में नेशनल ब्रॉडकास्टिंग कंपनी (एनबीसी) ने की वहीं फिलाडेल्फिया के पेन्सिलवेनिया में बाइडेन के हाउन हॉल की मेजबानी अमेरिकन ब्रॉडकास्टिंग कंपनी (एबीसी) न्यूज ने की। राष्ट्रपति पद के लिये दूसरी बहस बृहस्पतिवार रात को होनी थी। राष्ट्रपति के कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमित पाए जाने के बाद स्वतंत्र बहस आयोग ने संशोधित रूप से इस बहस का आयोजन डिजिटल तरीके से कराने की तैयारी की थी।

हालांकि ट्रंप द्वारा इसमें हिस्सा लेने से इनकार किये जाने के बाद इसे रद्द कर दिया गया। अंतिम बहस फिलहाल टेनेसी के नैशविले में 22 अक्टूबर को निर्धारित है। पहली बहस ओहायो के क्लीवलैंड में 29 सितंबर को हुई थी। ट्रंप (74) और प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप (50) एक अक्टूबर को कोविड-19 महामारी से पीड़ित पाए जाने के बाद अब इससे उबर चुके हैं। ट्रंप के डॉक्टरों ने उन्हें चुनाव अभियान के लिये मंजूरी दे दी है।

टाउन हॉल के दौरान ट्रंप ने कोरोना वायरस महामारी को संभालने के अपने तौर-तरीकों का बचाव किया। उन्होंने कर भुगतान को लेकर अपने रुख पर भी भरोसा जताया। ट्रंप ने हालांकि क्यूएनन साजिश के सिद्धांत की आलोचना से इनकार कर दिया। धुर-दक्षिणपंथी समूह क्यूएनन के मुताबिक डेमोक्रेट्स गोपनीय बाल यौनशोषण गिरोह चला रहे हैं। संघीय जांच ब्यूरो (एफबीआई) ने इस समूह को आतंकी खतरे के तौर पर चिन्हित किया है।

बहस का संचालन कर रहीं सवाना गुथरी ने जब पूछा कि क्या वह क्यूएनन के सिद्धांत की आलोचना करेंगे और “यह कहेंगे कि यह बकवास और असत्य है”, ट्रंप ने कहा, “मैं क्यूएनन के बारे में नहीं जानता।” यह पूछे जाने पर कि क्या डेमोक्रेट्स द्वारा बाल यौन शोषण गिरोह चलाए जाने की बात पर वह यकीन करते हैं अथवा नहीं, उन्होंने कहा, “मुझे इस बारे में कुछ नहीं पता।”

अपने टाउन हॉल के दौरान बाइडेन ने कहा कि वह न्यायिक प्रक्रिया सुधार विधेयक, 1937 (कोर्ट पैकिंग) पर जल्द ही अपनी राय देंगे, इस मुद्दे पर वह अब तक बोलने से बचते रहे हैं। डेमोक्रेट्रिक पार्टी की तरफ से 77 वर्षीय राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के विस्तार को लेकर, उनकी क्या राय है, इस बारे में चुनाव के दिन से पहले वह स्पष्ट स्थिति पेश करेंगे जो इस बात पर निर्भर करेगी कि न्यायाधीश एमी कोनी बैरेट को स्थायी करने की अन्य प्रक्रियाएं किस तरह आकार लेती हैं।

सुप्रीम कोर्ट की दिवंगत न्यायाधीश रुथ बादर गिन्सबर्ग का स्थान लेने के लिए ट्रंप ने न्यायाधीश बैरेट का चयन किया था। बैरेट की स्थायी नियुक्ति को लेकर सीनेट की न्यायपालिका समिति ने बृहस्पतिवार को अपनी सुनवाई पूरी की है। न्यायपालिका समिति के अध्यक्ष लिंडसे ग्राहम ने कहा कि समिति बैरेट को नामित किये जाने के मामले में 22 अक्टूबर को मतदान करेगी और समिति अगर उनके नामांकन को मंजूर करती है तो उसे सीनेट के सदस्यों के समक्ष रखा जाएगा।

एबीसी के जॉर्ज स्टीफनोपोलस के साथ बाइडेन ने कहा कि वह न्यायिक प्रक्रिया सुधार विधेयक, 1937 के प्रशंसक नहीं है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह उस स्थिति में अदालत में न्यायाधीशों की संख्या बढ़ाने पर विचार करेंगे जब चुनाव से पहले बैरेट के नाम को मंजूरी मिल जाती है, बाइडेन ने कहा, “मैं यह विचार करने का विकल्प खुला रखता हूं कि क्या किया जा सकता है।”

‘कोर्ट पैकिंग’ पर स्पष्ट रूप से राय न व्यक्त करने को लेकर रिपब्लिकन, बाइडेन की आलोचना करते रहे हैं। बाइडेन के टाउन हॉल में उनके बेटे हंटर बाइडेन पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों से जुड़े कोई सवाल नहीं था।