Civil war feared in Myanmar, UN envoy warns
File Image: Twitter

    मामदालय (म्यांमार): म्यांमार (Myanmar) के दूसरे सबसे बड़े शहर के निवासियों ने हड़ताली (Strike) रेलकर्मियों (Railway Staff) को उनके सरकारी आवास से शनिवार को बाहर निकलने में मदद की। प्राधिकारियों ने कहा था कि यदि उन्हें पिछले महीने के सैन्य तख्तापलट (Coup) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों (Protests) का समर्थन (Support) करना है तो उन्हें वहां से निकलना होगा। मामदालय के निवासियों ने श्रमिकों के फर्नीचर और अन्य घरेलू सामानों को ट्रकों, वैन और पिकअप ट्रकों तक पहुंचाया।

    सरकारी रेलवे कर्मचारी पिछले महीने एक फरवरी के तख्तापलट के खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन के तौर पर हड़ताल पर चले गए थे। उक्त तख्तापलट से देश में आंग सान सू की की निर्वाचित सरकार सत्ता से बेदखल हो गई थी। सैन्य शासन ने उन्हें डरा-धमका कर काम पर वापस लाना चाहती थी जिसमें पिछले महीने मामदालय में उनके आवास क्षेत्र और यांगून में रेलकर्मियों के आवास क्षेत्र में गोली चलाते हुए गश्त शामिल थी।

    मामदालय और यंगून सहित देश भर के शहरों और कस्बों में तख्तापलट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शनिवार को भी जारी रहा। तख्तापलट से पांच दशकों के सैन्य शासन के बाद म्यांमार में लोकतंत्र की दिशा में धीमी प्रगति को उलट दिया। तख्तापलट के खिलाफ लगातार विरोध प्रदर्शनों के विरोध में, जुंटा ने तेजी से हिंसक कार्रवाई की है और बाहरी दुनिया तक पहुंचने वाली सूचनाओं को सीमित करने के प्रयास किये हैं।

    इंटरनेट का उपयोग गंभीर रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है, निजी समाचार पत्रों के प्रकाशन पर रोक लगा दी गई है और बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों, पत्रकारों और राजनेताओं को गिरफ्तार किया गया है।