अमेरिका में फ्लॉयड की बरसी पर लोगों ने रखा मौन, निकाली रैलियां

    मिनियापोलिस. श्वेत पुलिस अधिकारी द्वारा गर्दन दबाए जाने से अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड (George Floyd) की मौत की पहली बरसी पर मंगलवार को लोगों ने कुछ पल का मौन रखा और जिस चौराहे पर यह घटना हुई थी वहां फ्लॉयड की याद में लोगों ने मेले और संगीत प्रस्तुतियों का आयोजन किया। फ्लॉयड की बहन ब्रिगेट और परिवार के अन्य सदस्यों ने मिनियापोलिस के एक पार्क में ‘‘जिंदगी का जश्न” (Celebration of Life) कार्यक्रम में कुछ पल का मौन रखा। इस कार्यक्रम में संगीत और खाने-पीने का आयोजन भी किया गया।

    जिस चौराहे पर फ्लॉयड की हत्या हुई थी वहां से कुछ मील दूर दर्जनों लोग स्टील की एक मूर्ति के सामने कुछ देर तक घुटने टेककर बैठे रहे। यह उस घटना की याद दिलाने के लिए किया जब अश्वेत पुलिस अधिकारी ने अपने घुटने से नौ मिनट 29 सेकंड तक फ्लॉयड की गर्दन को दबाये रखा था। ब्रिगेट ने लोगों से कहा, ‘‘यह परेशान करने वाला साल था, बहुत लंबा एक साल था।” उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन मुश्किल से ही सही, मने यह साल बिताया। लोग कहते हैं कि ऊपर वाला साथ हो तो कुछ भी संभव है और मैं भगवान के इस रूप को मानती हूं… आज सभी का प्यार मिल रहा है। प्यार भी यहीं है और जॉर्ज भी यहीं है।” वहीं, फ्लॉयड के परिवार के अन्य सदस्यों ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और उपराष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris)  से मंगलवार को व्हाइट हाउस में मुलाकात कर अपने प्रियजन को गंवाने का दुख जताया और नस्लवाद के खिलाफ कड़े कानून की मांग की। न्यूयॉर्क में भी कुछ पल का मौन रखा गया और लॉस एंजिलिस में फ्लॉयड के सम्मान में रैली निकाली गयी। जर्मनी में भी एक रैली निकाली गई और ग्रीस तथा स्पेन में अमेरिका के दूतावासों में भी फ्लॉयड की याद में कार्यक्रम आयोजित किए गए।

    मिनियापोलिस में जिस चौराहे पर फ्लॉयड की हत्या हुई थी वहां कार्यक्रम आयोजित किए जाने के कुछ घंटों बाद गोलीबारी हुई। मीडिया में गोलियां चलने पर लोगों को बचकर भागते हुए दिखाया गया। पुलिस ने बताया कि घटना में घायल एक व्यक्ति को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने बताया कि उसकी हालत गंभीर है लेकिन उसके बचने की संभावना है। घटनास्थल पर मौजूद फिलिप क्रॉथर नाम के एक पत्रकार ने बताया कि उसने करीब 30 गोलियां चलने की आवाज सुनी। कई अन्य शहरों की तरह मिनियापोलिस भी बंदूक हिंसा के बढ़ते मामलों से जूझ रहा है। जिस चौराहे पर फ्लॉयड की मौत हुई थी, मंगलवार को वहां मेला लगा। खाना-पीना, बच्चों का खेल-कूद, मनोरंजन सबकुछ था। न्यूयॉर्क में मेयर बिल डी ब्लासियो और अमेरिकी रिपब्लिकन हकीम जेफरीज समेत निर्वाचित अधिकारी मौन में शामिल हुए।

    फ्लॉयड के भाई फिलिनोइस ने सीएनएए से कहा कि वह ‘‘हर समय” जॉर्ज के बारे में सोचते रहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी बहन ने कल रात 12 बजे मुझे फोन किया और कहा कि इसी दिन हमारा भाई हमें छोड़कर गया था। मुझे लगता है कि चीजें बदल गई हैं। मुझे लगता है कि हालात धीरे-धीरे बदल रहे हैं लेकिन हम आगे बढ़ रहे हैं।” इस बीच मंगलवार को ही अमेरिकी सीनेट ने नागरिक अधिकारों के लिए सहायक अटॉर्नी जनरल के तौर पर क्रिस्टन क्लार्क के नाम की पुष्टि की जो इस पद पर आने वाली पहली अश्वेत महिला है वहीं, फ्लॉयड के परिवार ने निधि जुटाने के एक कार्यक्रम का शुभारंभ किया जिससे कारोबारी और सामुदायिक संगठनों को अनुदान दिया जाएगा ताकि ‘‘अश्वेत नागरिकों को सफलता और वृद्धि के लिए प्रेरित किया जा सकें।”

    गौरतलब है कि पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन ने 25 मई 2020 को अपने घुटने से फ्लॉयड की गर्दन को नौ मिनट से अधिक समय तक दबाया था जिससे उसकी मौत हो गई थी। फ्लॉयड की मौत के बाद देशभर में नस्लवाद के खिलाफ प्रदर्शन भड़क उठे थे और दुनियाभर में उसकी हत्या की निंदा की गई थी। इस घटना के बाद से पुलिस में सुधारों की मांग तेज हो गयी। चाउविन पर पिछले महीने हत्या के आरोप तय किए गए। (एजेंसी)