दक्षिण अफ्रीका में कोरोना की ‘तीसरी लहर’ बरपाने लगा कहर, लगे कड़े प्रतिबंध

    जोहानिसबर्ग. कोविड-19 (Covid-19) के तेजी से बढ़ते मामलों के मद्देनजर दक्षिण अफ्रीका ने शराब की बिक्री पर रोक और रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू  (Night Curfew) करने जैसे कदम उठाकर देश में फिर से कड़े प्रतिबंध लागू कर दिए हैं। दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा (Cyril Ramaphosa) ने रविवार रात इस संबंध में घोषणा की। उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि दक्षिण अफ्रीका में संक्रमण के बढ़ते मामलों का कारण भारत में सबसे पहले पाया गया कोरोना वायरस का ‘डेल्टा’ स्वरूप है।

    दक्षिण अफ्रीका में रविवार को संक्रमण के 15,000 से अधिक नए मामले सामने आए तथा 122 और लोगों की मौत हो गई। देश में संक्रमण से अब तक करीब 60,000 लोगों की मौत हो चुकी है। देश के कई प्रांत अस्पतालों में बिस्तरों की कमी से जूझ रहे हैं। जिम्बाब्वे, नामीबिया और मोजाम्बिक में भी मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। रामाफोसा ने देश को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘तीसरी लहर जोर पकड़ रही हैं।” उन्होंने कहा कि दो सप्ताह के लिए सभी सार्वजनिक सभाओं पर रोक रहेगी। इस दौरान केवल अंतिम संस्कार की अनुमति होगी, लेकिन उनमें भी 50 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकेंगे। उन्होंने लोगों से मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील की।

    राष्ट्रपति ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका की टीकाकरण दर धीरे-धीरे गति पकड़ रही है। देश में रविवार तक 27 लाख लोगों को एक खुराक लग चुकी थी। दक्षिण अफ्रीका के 12 लाख 50 हजार स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों में से 9,50,000 से अधिक का टीकाकरण किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि ‘जॉनसन एंड जॉनसन’ और ‘फाइज़र’ के टीकों की आपूर्ति बढ़ रही है। दक्षिण अफ्रीका का लक्ष्य फरवरी 2022 तक अपने छह करोड़ लोगों में से 67 प्रतिशत का टीकाकरण करना है। (एजेंसी)