दक्षिण कोरिया में गिरजाघरों को ‘उच्च जोखिम’ वाले स्थानों की सूची में डालने पर विचार

सियोल. दक्षिण कोरिया धार्मिक स्थानों को भी नाइट क्लब, बार और कराओके कक्षों वाली उसी सूची में शामिल करने पर विचार कर रहा है जिन्हें कोरोना वायरस संक्रमण के फैलने के संबंध में “उच्च जोखिम” वाले स्थानों के तौर पर चिन्हित किया गया है। कोरोना वायरस संक्रमण के कई ऐसे मामले सामने आए जिनका संबंध गिरजाघरों में प्राथर्नासभाओं से था, जिसके चलते इस कदम पर विचार किया जा रहा। दक्षिण कोरिया के प्रधानमंत्री चुंग सेय क्यून ने वायरस को लेकर बुधवार को हुई एक बैठक के दौरान कहा कि देश में पिछले तीन दिन में सामने आए 40 प्रतिशत से ज्यादा मामले उपासना स्थलों से जुड़े पाए गए हैं।

उन्होंने लोगों से धार्मिक सभाओं में न जाने की अपील की और बचाव संबंधी उचित उपाय लागू करने में विफल रहने के लिए गिरजाघरों एवं अन्य स्थलों की आलोचना की। चुंग ने कहा, “अगर धार्मिक स्थल वायरस की रोकथाम संबंधी उपाय लागू करने में विफल रहते हैं और संक्रमण फैलने का जोखिम बढ़ाते हैं तो सरकार के लिए उन्हें उच्च जोखिम वाले स्थानों के तौर पर चिन्हित करना और सख्त प्रतिबंध लगाना आवश्यक हो जाएगा।” उच्च जोखिम वाले स्थलों को या तो बंद रखने की सलाह दी गई है या वायरस के रोकथाम संबंधी उपाय करने को कहा गया है जिनमें शारीरिक दूरी, तापमान की जांच, ग्राहकों की सूची बनाना और कर्मचारियों एवं आगंतुकों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य करना शामिल है। इसके अलावा उनके लिए आगंतुकों को स्मार्टफोन क्यूआर कोड के साथ पंजीकृत करना भी जरूरी है ताकि जरूरत पड़ने पर आसानी से उनका पता लगाया जा सके। (एजेंसी)