New restrictions on Turkey, EU leaders raise concerns about activities in the Mediterranean

मुंबई: कश्मीर (Kashmir) के मुद्दे पर खुलकर पाकिस्तान (Pakistan) का समर्थन करने वाला तुर्की (Turkey) अब पूर्वी सीरिया (Turkey) से कश्मीर में विद्रोही आतंकियों को भेजने की योजना बना रहा है। ग्रीस (Greece) के एक पत्रकार, एंड्रियास माउंटजौरलियास (Andreas Mountzouralias) ने अपनी रिपोर्ट में तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) के इरादों का खुलासा किया है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एर्दोगन पाकिस्तान की सहायता के के लिए कश्मीर में विद्रोहियों के संपर्क में हैं।  

दक्षिण एशिया में मुस्लिमों पर अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश  

रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति एर्दोगन द्वारा इस्लामिक दुनिया पर सऊदी अरब (Saudi Arab) के प्रभुत्व को चुनौती देने के लिए लगातार कदम उठाए जा रहे हैं और दक्षिण एशिया (South Asia) में मुस्लिमों (Muslims) पर अपना प्रभाव बढ़ाने की अंकारा की यह कोशिश है। 

तुर्की का शील्ड ऑफ़ मेडिटेरेनियन’ अभियान  

अंकारा और इस्लामाबाद तुर्की के ऑपरेशन ‘शील्ड ऑफ़ मेडिटेरेनियन’ (Shield of the Mediterranean) में तुर्की अपने इस अभियान के तहत पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों की एक स्थायी उपस्थिति तैयार करना चाहता है। तुर्की की इस योजना में पाकिस्तान की मदद से तुर्की ग्रीक भूमि के हिस्सों पर कब्ज़ा करना चाहता है। 

सुलेमान शाह ब्रिगेड के मुखिया अबू इम्सा ने पहुंचाया संदेश 

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि, सुलेमान शाह ब्रिगेड, जो करीब 5 दिनों पहले सीरियाई राष्ट्रीय सेना (एसएमओ) में शामिल हो गया था उसके मुखिया अबू इम्सा (Abu Emsa) ने अपने सदस्यों से कहा कि तुर्की राज्य कश्मीर को मजबूत करना चाहता है और इसके लिए तुर्की के अधिकारी अन्य एसएमओ गिरोह के कमांडरों से उन लोगों के नाम बताने को कहेंगे जो कश्मीर जाना चाहते हैं। हालांकि नई दिल्ली में तुर्की के राजदूत, एकर ज़ुंकान टोरुनलर ने इंडिया टुडे को बताया कि “ये रिपोर्ट आधारहीन और गलत हैं।

दिए जाएंगे $2000 डॉलर्स 

खबर में कहा गया है कि, अबू एम्सा ने अपने मेम्बर्स से आफरीन (Afrin) में कहा कि जो लोग कश्मीर जाना चाहते हैं उनकी एक लिस्ट बनाई जाएगी और जो भी इस लिस्ट में शामिल किए जाएंगे उन्हें $ 2,000 की धनराशि भी दी जाएगी।