UN's first digital meeting begins with 'recorded speeches' by world leaders

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र (United Nations) महासभा के नए अध्यक्ष ने मंगलवार को सचेत किया है कि एकपक्षवाद से कोविड-19 (Covid-19) महामारी और मजबूती से पैर जमाएगी। उन्होंने महामारी के लिए टीकों के निष्पक्ष एवं समान वितरण समेत वैश्विक सहयोग की नई प्रतिबद्धता की अपील की।

तुर्की (Turkey) के राजनयिक और राजनेता वोल्कन बोजकिर ने घोषणा की कि महासभा नवंबर की शुरुआत में कोविड-19 पर उच्च स्तरीय विशेष सत्र का आयोजन करेगी। हालांकि राजनयिकों के अनुसार तारीख आगे भी बढ़ सकती है। बाद में उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह बैठक कुछ पहले, जून में होनी चाहिए थी।

बोजकिर ने पद की शपथ लेने के साथ 193 सदस्यीय वैश्विक संस्था की कमान संभाल ली है। उन्होंने तिजानी मुहम्मद बंदे का स्थान लिया है। बोजकिर ने संरा के सदस्य राष्ट्रों के प्रतिनिधियों से कहा, ‘‘मेरे अध्यक्षता काल में कोरोना वायरस के प्रभावों से लड़ना मेरी प्राथमिकता होगी।”

उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी देश इस महामारी से अकेले नहीं लड़ सकता” और यह सदस्य राष्ट्रों की जिम्मेदारी है कि वे बहुपक्षीय सहयोग और अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में लोगों के भरोसे को मजबूत करें, जिनके केंद्र में संयुक्त राष्ट्र हो। उन्होंने कहा कि जब से संकट शुरू हुआ है, बहुपक्षवाद के आलोचक और मुखर हो गए हैं।

बोजकिर ने कहा, ‘‘महामारी के बहाने एकतरफा कदमों को सही ठहाराया जा रहा है और नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय प्रणाली को कमजोर किया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय संगठनों को धिक्कारा गया और अंतरराष्ट्रीय सहयोग की जरूरत पर सवालिया निशान लगाए गए।” संरा महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि आने वाला साल संयुक्त राष्ट्र के लिए बहुत कठिन रहने वाला है।

मुहम्मद बंदे ने अपने विदाई भाषण में कहा कि नोवेल कोरोना वायरस के उभरने से यह स्पष्ट हुआ है कि स्वास्थ्य क्षेत्र तथा अन्य क्षेत्रों में भी गहन बहुपक्षीय सहयोग की आवश्यकता है जिससे कि विश्व के नेताओं के वादों को लागू किया जा सके। (एजेंसी)