US NSA Jake Sullivan said - The leaders of the quad countries discussed the challenges presented by China

    वॉशिंगटन: अमेरिका (America), भारत (India), ऑस्ट्रेलिया (Australia) और जापान (Japan) के नेताओं (Leaders) ने क्वाड (Quad) देशों की पहली बैठक में चीन की तरफ से पेश ‘‘चुनौतियों” पर चर्चा की और उन्होंने स्पष्ट किया कि बीजिंग (Beijing) को लेकर उनमें से किसी को भी ‘‘भ्रम” नहीं है। यह बात अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलीवान ने कही है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden), प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), ऑस्ट्रेलिया (Australia) के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन (Scott Morrison) और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा (Yoshihide Suga) के बीच ऐतिहासिक डिजिटल क्वाड शिखर सम्मेलन के तुरंत बाद शुक्रवार को व्हाइट हाउस (White House) में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमेरिका के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि चारों नेता इस वर्ष मिल- बैठकर शिखर सम्मेलन करने पर सहमत हुए हैं।

    सुलीवान ने कहा कि नेताओं ने दक्षिण और पूर्व चीन सागर में नौवहन की स्वतंत्रता और जोर-जबर्दस्ती से स्वतंत्रता सहित मुख्य क्षेत्रीय मुद्दों, उत्तर कोरिया परमाणु मुद्दा और म्यांमा में तख्तापलट (Myanmar Coup) तथा हिंसक दमन पर चर्चा की। चीन (China) के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक से पहले सुलीवान ने कहा, ‘‘बैठक में कठिन समय से गुजरने के बावजूद बेहतर भविष्य को लेकर उम्मीदें जताई गईं।”

    उन्होंने कहा, ‘‘चारों नेताओं ने चीन की तरफ से पेश चुनौतियों पर चर्चा की और उन्होंने स्पष्ट किया कि उनमें से किसी को भी चीन को लेकर भ्रम नहीं है, लेकिन आज की चर्चा मूल रूप से चीन को लेकर नहीं थी।” सुलीवान और अमेरका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन 18-19 मार्च को चीन के अपने समकक्ष यांग जाइची और विदेश मंत्री वांग यी से अलास्का के एंकरेज में मुलाकात करेंगे। सुलीवान ने कहा, ‘‘हमारा प्रयास है कि चीन की सरकार को स्पष्ट रूप से बता दें कि किस तरह से अमेरिका सामरिक स्तर पर आगे बढ़ना चाहता है, हमारे मौलिक हित और मूल्य क्या हैं और उनकी गतिविधियों को लेकर हमारी चिंताएं क्या हैं — स्पष्ट रूप से हमने अपने क्वाड सहयोगियों की बातें सुनीं; ऑस्ट्रेलिया पर उनका दबाव, सेनकाकू प्रायद्वीप के पास उनका दबाव बनाना, भारत की सीमाओं पर उनकी आक्रामकता की बातों को गौर से सुना।”

    पूर्वी लद्दाख में पिछले वर्ष मई से भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास जारी सैन्य गतिरोध के बीच क्वाड शिखर सम्मेलन आयोजित हुआ है। क्वाड नेताओं ने संयुक्त बयान में ‘‘हमारे समय की चुनौतियों” को लेकर सहयोग मजबूत करने का संकल्प जताया।सुलीवान ने कहा कि शुक्रवार को क्वाड शिखर सम्मेलन में ज्यादा ध्यान वर्तमान वैश्विक संकट पर था, जिसमें जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 जैसे मुद्दे शामिल थे। कोविड-19 को लेकर चारों नेताओं ने संयुक्त प्रतिबद्धता जताई।