Vaccine: Russia begins production, expected to roll out by August end
Representative Picture

मॉस्को: कोरोना वायरस (Corona Virus) की वैक्सीन (Vaccine) बनाने की घोषणा के बाद रूस (Russia) दुनिया का पहला देश बन गया है जिसने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन तैयार कर ली है। रिपोर्ट्स के अनुसार, रूस ने अब कोरोना वैक्सीन का प्रोडक्शन शुरू कर दिया है और इसका पहला बैच तैयार भी कर लिया गया है। वैक्सीन का प्रोडक्शन अगस्त एन्ड तक बाजार में रोल आउट होने की उम्मीद है। रूस ने कहा है कि मॉस्को (Moscow) के गमालेया इंस्टीट्यूट (Gamaleya Institute) द्वारा विकसित वैक्सीन का प्रोडक्शन शुरू कर दिए है। 

11 अगस्त को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने ऐलान किया था कि रूस ने कोरोना वायरस की पहली वैक्सीन तैयार कर ली है। पुतिन ने कहा था कि दुनिया में पहली बार कोरोना वायरस का टीका तैयार कर लिया गया है। पुतिन ने बताया था कि रूस द्वारा तैयार की गई कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल उनकी बेटी पर भी किया गया है। इस वैक्‍सीन को रूस ने सोवियत संघ के सैटेलाइट पर ‘स्‍पू‍तनिक वी’ का नाम दिया है। वैक्सीन को रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मंजूरी दे दी है। 

बता दें, रूस के इस दावे के बाद दुनिया भर के देशों में लगी कोरोना वैक्सीन बनाने की दौड़ में रूस ने सभी को पछाड़ दिया है। लेकिन पश्चिमी देशों ने सबसे बड़ा सवाल यह उठाया है कि रूस ने इतनी जल्दी वैक्सीन कैसे विकसित कर ली है। हालांकि इस दौरान लगभग पूरा विश्व कोरोना संक्रमण से जूझ रहा है और सभी देश कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। वहीं रूस की घोषणा के बाद दुनिया भर में एक उम्मीद की किरण जागी है। रूस को अब तक कम से  कम 20 देशों ने एक बिलियन डोज के लिए ऑर्डर दे रखा है। 

वैसे कई देशों ने अब तक यह भी दावा किया है कि अगले कुछ महीनों में वो कोरोना वैक्सीन बनाने में कामयाबी हासिल कर लेंगे। कई देश कोरोना वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल भी कर रहे हैं। भारत भी इस दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। अब तक दुनिया में लाखों लोग इस वायरस की वजह से मारे जा चुके हैं। विश्व में अभी तक कोरोना के करीब 2 करोड़ मामले सामने आए हैं।