UK court dismisses WikiLeaks founder Assange's bail petition after extradition ban

लंदन. लंदन की ओल्ड बेली (Old Bailey) अदालत को मंगलवार को बताया गया कि विकीलीक्स के संस्थापक जुलियन असांजे (WikiLeaks founder Julian Assange) पर अगर जासूसी का दोष सिद्ध हो जाता है तो उन्हें जिस जेल में भेजा जाएगा वहां वह सिर्फ ‘‘मरणासन्न” होने पर ही बाहर निकल सकेंगे। न्यूयॉर्क के मेट्रोपॉलिटन कॉरेक्शनल सेन्टर (जेल) (Metropolitan Correctional Center) के पूर्व वार्डन मौरीन बैरड के अनुसार, अमेरिका से प्रत्यर्पण अनुरोध के खिलाफ अदालती लड़ाई लड़ रहे असांज को दोषी करार दिए जाने के बाद संभवत: फ्लोरेंस, कोलोराडो के संघीय सुपरमैक्स जेल भेजा जाएगा।

अमेरिकी अभियोजकों ने 49 वर्षीय असांजे पर जासूसी के 17 आरोप तय किए हैं और एक आरोप करीब 10 साल पहले अमेरिकी सेना के गोपनीय दस्तावेजों को प्रकाशित करने के लिए विकीलीक्स के कंप्यूटर के दुरुपयोग का भी है। दोषी करार दिए जाने पर असांज को अधिकतम 175 साल कैद की सजा हो सकती है। अंसाजे के वकीलों ने यह भी कहा कि वह कई प्रकार की मानसिक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से जूझ रहे हैं जिनमें आत्महत्या की प्रवृति भी शामिल है।और उनकी ये बीमारियां अमेरिका में जेलों के अमानवीय माहौल में और बिगड़ सकती हैं। (एजेंसी)