अश्वेत बच्ची ने स्पेलिंग प्रतियोगिता जीतकर रचा इतिहास, कभी भाग लेने पर थी पाबंदी

    शिकागो. 14 बरस की जैला अवंत -गार्डे  (Zaila Avant-Garde) ने पिछले हफ्ते 2021 स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी (Scripps National Spelling Bee) जीतकर एक नयी मिसाल कायम की। प्रतियोगिता के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि एक अश्वेत अमेरिकी लड़की ने इसमें जीत हासिल की। स्पैलिंग से जुड़ी प्रतियोगिताओं की विद्वान शालिनी शंकर इस ऐतिहासिक क्षण के महत्व को बताती हैं।

    यह खबर क्यों है कि एक अफ्रीकी अमेरिकी ने यह चैंपियनशिप जीती? यह महत्वपूर्ण है क्योंकि इस बात को ज्यादा वक्त नहीं हुआ, जब अश्वेत बच्चों को इस प्रतियोगिता में सिर्फ भाग लेने के लिए ही बहुत सी बाधाओं का सामना करना पड़ता था। दरअसल, 1964 के नागरिक अधिकार अधिनियम के पारित होने के बाद तक अश्वेत बच्चों को राष्ट्रीय मंच पर भाग लेने से रोका जाता था। 1950 के दशक के उत्तरार्ध में स्कूलों को नस्लीय रूप से एकीकृत करने का आदेश दिए जाने के बाद भी, स्पेलिंग बी जैसी प्रतियोगिताओं में सिर्फ श्वेत ही भाग ले पाते थे। इसके लिए कुछ क्षेत्रीय आयोजक भी जिम्मेदार रहे, जिन्होंने इसमें नियमित रूप से रुचि रखने वाले अश्वेत बच्चों को प्रतियोगिता में आगे बढ़ने से रोकने के तरीके खोजे। अवंत-गार्डे की जीत इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि किसी भी खेल की तरह, लोग हर नया रिकॉर्ड बनने पर उसका जश्न मनाना पसंद करते हैं। यह विशेष रूप से स्वागत योग्य है क्योंकि 1998 में जमैका के जोडी-ऐनी मैक्सवेल की जीत को अपवाद के रूप में देखें तो स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी को कभी भी कोई अश्वेत विजेता नहीं मिला है।

    इसके लिए दशकों के उस नुकसान को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है जिसके चलते अश्वेत स्कूलों के पास इतने संसाधन ही नहीं होते थे कि वह स्पेलिंग बी जैसी गतिविधियों के लिए छात्रों को समर्थन और प्रशिक्षण दे सकें। यह आश्चर्यजनक लग सकता है, लेकिन स्पैलिंग बी जैसे विशेष मस्तिष्कीय खेलों और बच्चों की कई अन्य प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए वर्तनी प्रशिक्षकों जैसी बहुत अधिक विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। स्पेलिंग बी चैंपियन बनने के लिए क्या करना होगा? स्पेलिंग बी चैंपियन बनने के लिए कई विशेषताएं होना जरूरी है। सबसे पहले और सबसे जरूरी है कि आपको अंग्रेजी भाषा से प्यार हो, विशेष रूप से भाषाशास्त्र – यह भाषा का ऐतिहासिक विकास है – और व्युत्पत्ति विज्ञान – शब्द उत्पत्ति और जड़ों का अध्ययन।

    विजेताओं में इन क्षेत्रों में विशाल ज्ञान का भंडार बनाने और प्रतिस्पर्धा के दौरान उसका समयानुकूल इस्तेमाल करने की क्षमता होना जरूरी है। इस रुचि के बिना, प्रति दिन हजारों शब्दों का अध्ययन करने का कार्य, जैसा कि दिग्गज स्पेलर करते हैं, सबसे अच्छा होगा। इसके अलावा, जैसा कि मैंने अपनी पुस्तक ‘‘बीलाइन : व्हाट स्पेलिंग बीज़ रिवील अबाउट जेनरेशन जी’स न्यू पाथ टू सक्सेस” पर शोध करते समय सीखा, एक और बात जो समान रूप से महत्वपूर्ण है वह माता-पिता का समर्थन है जो एक महत्वाकांक्षी स्पेलर को दिन-प्रतिदिन के अध्ययन, विशेषज्ञ कोचिंग और कोचिंग कंपनियों द्वारा डिज़ाइन की गई व्यावसायिक शब्द सूचियों और संसाधन तक पहुंच के संदर्भ में मिलता है। स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी भी शब्द सूचियों का वितरण करता है। हालांकि, चैंपियनों ने मुझे बताया है कि प्रतियोगिता में बढ़ती कठिनाई पर पार पाने के लिए ये पर्याप्त व्यापक नहीं हैं।

    ज़ैला अवंत-गार्डे के पिता को वर्तनी के प्रति उनकी योग्यता का एहसास तब हुआ जब वह लगभग 10 वर्ष की थीं, हालांकि प्रतियोगिता के लिहाज से अपेक्षाकृत देर हो चुकी थी, जिसमें पात्रता आठवीं कक्षा के बाद समाप्त हो जाती है, जब अधिकांश स्पेलर 14 वर्ष के होते हैं। मैंने जिन स्पेलर का अध्ययन किया, उन्होंने 6 या 7 वर्ष की उम्र में प्रतिस्पर्धा में भाग लेना शुरू कर दिया और 10 साल की उम्र तक वह प्रतियोगिता के प्रारूप के साथ और अधिक सहज होते गए। फिर भी, जैला ने 2019 के मुकाबले काफी प्रगति की, जब वह प्रतियोगिता के तीसरे दौर से बाहर हो गई थीं, जिसे मैंने नेशनल हार्बर, मैरीलैंड में देखा।

    2021 में प्रतियोगिता में उसकी शानदार जीत उनकी शानदार मेहनत, लगन और असाधारण योग्यता के साथ ही उनके माता-पिता की मेहनत और समर्थन की कहानी सुनाती है। ज़ैला की यह जीत भविष्य में विविध पृष्ठभूमि वाले और लोगों को इन प्रतियोगिताओं की ओर आकर्षित करेगी। ज़ैला की जीत के सहारे अब महत्वाकांक्षी अश्वेत बच्चों को आगे बढ़ने के लिए किसी काल्पनिक प्रेरणास्रोत का सहारा नहीं लेना पड़ेगा। मेरा मानना ​​​​है कि ज़ैला की जीत बहुत प्रेरणादायक होगी, जैसे वीनस और सेरेना विलियम्स नई पीढ़ी की अश्वेत महिला टेनिस चैंपियन रही हैं। 

    -द कन्वरसेशन