जब बीच बुलेटिन सैलरी मांगने लगा एंकर, लगाए चैनल पर गंभीर आरोप – देखें वीडियो

    आज के समय में देश-दुनिया की खबरें जानने के लिए लोग मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आज भी कई लोग हैं जो टीवी पर इत्मीनान से न्यूज़ देखना पसंद करते हैं। चैनलों पर न्यूज़ ब्रीफ में बताया जाता है, जिसे देखकर पूरी कंडीशन समझ में आ जाती है। कभी कभार तो ख़बरें दिखाने वाले चैनल ही एक खबर बन जाते हैं। जैसे कई बार लाइव टीवी शो में होने वाली बहस में लोग एक दूसरे को गाली देने लगते हैं, तो कभी मारपीट करने लगते हैं। लेकिन, आज हम जिस किस्से के बारे में बताने जा रहे हैं वह बेहद ही अजीब है। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है।  

    क्या है मामला

    दरअसल, हाल ही में जाम्बिया (Zambia) के एक टीवी एंकर ने लाइव समाचार बुलेटिन के बीच में ही ये बताने लगा कि चैनल उसे सैलरी नहीं दे रहा है। केबीएन टीवी (KBN TV) के न्यूज एंकर कबिंदा कलीमिना (Kabinda Kalimina) ने हाल ही में काफी हलचल मचा दी है। उन्होंने चैनल पर कर्मचारियों के वेतन न देने और सैलरी रोकने का आरोप लगाया है। वह न्यूज़ हेडलाइंस पढ़ते हुए ही अचानक बीच में ही सैलरी का मुद्दा उठाकर उसपर चर्चा करने लगे। उनके इस कदम से दर्शकों के साथ ही ऑफिस वाले भी चौंक गए। कबिंदा कलीमिना ने चैनल के मैनेजमेंट पर गंभीर आरोप भी लगाए हैं। 

    सैलरी न मिलने पर हुए इमोशनल 

    कबिंदा कलीमिना ने ऑन एयर शो में कहा कि, ‘खबरों से अलग हटकर हम सभी इंसान हैं और हमें सैलरी मिलनी चाहिए। दुर्भाग्य से KBN TV ने हमें वेतन नहीं दिया। अपने सहयोगियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मुझे और शेरोन सहित किसी को भी सैलरी नहीं मिली है। हमें सैलरी मिलनी चाहिए। दरअसल, एंकर को पिछले कई महीनों से सैलरी नहीं मिली थी। जिसका ज़िक्र वह इमोशनल होकर लाइव बुलेटिन में ही बोलने लगे। 

    चैनल ने एंकर को बताया शराबी

    इस घटना के तुरंत बाद चैनल ने  कबिंदा कलीमिना को नौकरी से निकाल दिया। साथ ही केबीएन टीवी के चीफ एग्जीक्यूटिव केनेडी माम्ब्वे ने एंकर को शराबी बताया है। साथ ही ये भी कहा कि यह पब्लिसिटी पाने का तरीका है। वहीं कबिंदा कलीमिना ने फेसबुक पर इस घटना का वीडियो शेयर किया है और लिखा है, ‘हां मैंने लाइव टीवी पर ऐसा किया, क्योंकि ज्यादातर पत्रकार ये बोलने से डरते हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि पत्रकारों को इस बारे में बोलना नहीं चाहिए।’ वीडियो वायरल होते ही कई लोगों केबीएन टीवी के कर्मचारियों के समर्थन में आवाज उठाने लगते हैं।