‘हरे रामा, हरे कृष्णा’ के जयकारों से गूंजा तालिबान, नवरात्रि पर हिंदुओं में दिखी आस्था की भक्ति

    काबुल. अफगानिस्तान पर तालिबान (Taliban) द्वारा कब्जा जमा लेने के बाद भीषण अराजकता और अफरातफरी का माहौल था, लेकिन हालत अब धीरे-धीरे थोड़ा सुधरते देखा जा रहा है। काबुल में इसका ताजा उदाहरण देखने को मिला। यहां नवरात्रि (Navratri in Kabul Afghanistan) के पावन अवसर पर हिंदू (अल्पसंख्यक समुदाय) के लोगों ने कीर्तन और जगराता किया।  

    रिपोर्ट के अनुसार काबुल स्थित असमाई मंदिर (Asamai Temple) की मैनेजमेंट कमेटी के अध्यक्ष राम शरण सिंह ने बताया कि उन्होंने कीर्तन और जागरण के साथ-साथ भंडारे का भी आयोजन किया, जिसमें जरूरतमंदों को खाना खिलाया गया। इस कार्यक्रम में करीब 150 लोग जुटे थे, जिसमें अफगान में रहने वाले हिंदुओं के साथ सिख भी शामिल थे। साथ ही असमाई मंदिर (Asamai Mandir) में कुछ वीडियोज भी सामने आए हैं जिसमें लोगों को कीर्तन और जागरण करते देखा जा सकता है। बता दें कि यह मंदिर काबुल में ही स्थित ‘करते परवान’ गुरुद्वारे से 4-5 किलोमीटर दूर स्थित है। करते परवान गुरुद्वारे में पिछले हफ्ते संदिग्ध तालिबान लड़ाकों ने तोड़फोड़ की थी। 

    अफगानिस्तान में फंसे हिंदू और सिखों ने भारत सरकार से उन्हें जल्द निकालने की अपील की है। उनका कहना है कि फिलहाल अफगान के आर्थिक हालात बेहद ख़राब हैं और उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।