File Photo
File Photo

    वाशिंगटन: अमेरिका (America) के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन (Foreign Minister Antony Blinken) ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) के 76वें सत्र से इतर पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Foreign Minister Shah Mahmood Qureshi) से मुलाकात की। इस दौरान दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान में आगे की कार्रवाई पर चर्चा की और दोनों देशों के इस मुद्दे पर एक साथ काम करने के महत्व पर जोर दिया।

    ब्लिंकन ने बृहस्पतिवार को न्यूयॉर्क में कुरैशी से मुलाकात के दौरान कहा कि उनका बहुत अधिक ध्यान अफगानिस्तान, दोनों देशों के मिलकर काम करने और अफगानिस्तान में आगे की राह पर बढ़ने पर केन्द्रित है। ब्लिंकन ने अफगानिस्तान छोड़ने की इच्छा रखने वाले अमेरिकी नागरिकों और अन्य के प्रस्थान में मदद देने के लिए पाकिस्तान द्वारा किए गए काम की सराहना की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस के अनुसार, दोनों नेताओं ने अफगानिस्तान के संबंध में आगे की कार्रवाई को लेकर चर्चा की।

    प्राइस ने कहा, ‘‘ ब्लिंकन ने हमारे राजनयिक संबंधों के समन्वय के महत्व को दोहराया और अफगानिस्तान छोड़ने के इच्छुक लोगों के प्रस्थान को सुविधाजनक बनाने का जिक्र भी किया। मंत्री ने कहा कि अमेरिका इन दोनों प्रयासों में पाकिस्तान के समर्थन और सहायता की सराहना करता है।”

    कुरैशी ने कहा, ‘‘ मैंने सोचा था कि एक समय आएगा जब हम अफगानिस्तान के अलावा भी कोई बात करेंगे, लेकिन अफगानिस्तान अब भी चर्चा में है…हमें अपने साझा उद्देश्य-शांति और स्थिरता को प्राप्त करने के लिए सामूहिक रूप से काम करने का तरीका खोजना होगा।”

    अमेरिका द्वारा एक मई को अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को वापस बुलाना शुरू करने के बाद तालिबान ने देश के कई हिस्सों पर कब्जा करना शुरू कर दिया था और 15 अगस्त को उसने काबुल को भी अपने नियंत्रण में ले लिया था। तालिबान ने छह सितंबर को पंजशीर पर नियंत्रण करने के बाद अफगानिस्तान में विपक्षी बलों पर अपनी जीत की घोषणा कर दी थी।