गजब: तुर्की में मिली इंसानी शक्ल की मूर्ति और पेनिस जैसे खंभे, बताया जा रहा है 11 हजार साल पुराना

    नई दिल्ली: सोशल मीडिया (Social Media) पर आए दिन कई तरह की अजीबो-गरीब चीजें (Strange Place) वायरल होती रहती है। वहीं मौजूदा समय में खोजकर्ता (Explorer) भी इसी तरह की चीज़ों के तलाश में रहते हैं। कुछ इसी तरह की चीज़ तुर्की (Turkey) में मिली है। पुरातत्वविदों (Archaeologists) ने हाल ही में एक प्राचीन स्थान को खोजा है, जो करीब 11 हजार साल पुरानी है। 

    यह जगह एक छोटी पहाड़ी के नीचे मिली है। यह जगह बेहद ही अजीब है। 11 हजार साल पुरानी इस जगह के दीवारों पर इंसान की शक्ल बनी हुई है। इसके अलावा पेनिस के आकार के खंभे भी मिले हैं। हालांकि, इस जगह पर अब रिसर्च शुरू हो चुकी है। फिलहाल यह जानकारी नहीं है कि इन प्राचीन अवशेषों (Ancient Relics) को उस समय बनाने की वजह क्या रही होगी। 

    ऐसा माना जा रहा है कि इस स्थान पर प्राचीन लोग किसी तरह का सांस्कृतिक या पारंपरिक कार्यक्रमों का आयोजन किया करते थे। हालांकि, इस बात को लेकर कोई स्पष्ट खुलासा नहीं हुआ है। यह स्थान दक्षिणी तुर्की के सन्लिउर्फा नामक जगह से पूर्व में स्थित है। इस जगह का नाम है काराहैनटेपे (Karahantepe) है। 

    इस्तांबुल यूनिवर्सिटी के प्रीहिस्टोरिक आर्कियोलॉजिस्ट नेकमी करूल बताते हैं कि, इंसानी शक्ल की मूर्ति और पेनिस के आकार वाले खंभों वाला यह स्थान उस समय का है, जब इंसानों को लिखना नहीं आता था। जहां पर ये प्राचीन अवशेष मिले हैं। वहां पहले एक इमारत हुआ करती थी, जो तीन अलग इमारतों से जुड़ी हुई थी। बता दें कि, यह खोज हाल ही में जर्नल Türk Arkeoloji ve Etnografya Dergisi में प्रकाशित हुई है। 

    नेकमी करूल आगे कहते हैं कि, इस जगह पर किस तरह के कार्यक्रम होते होंगे इस बात की जांच शुरू है। फ़िलहाल इस बात के अध्ययन और खनन की जरूरत है। क्योंकि आमतौर पर किसी कार्यक्रम में कई प्रकार के बर्तनों, यंत्रों, फर्निचर, जेवर आदि का उपयोग होता है। अगर ऐसा कुछ मिलता है तो कई तरह के नए खुलासे हो सकते हैं। इस स्थान पर पथरीली इंसानी शक्ल और पेनिस के आकार के खंभों के पास कई जगहों पर मिट्टी की मोटी परत जमी हुई है। ऐसे में वह कहते कि मिट्टी से भरने या किसी चीज को ढंकने से उसकी उम्र लंबी हो जाती थी। 

    काराहैनटेपे (Karahantepe) उसी समय का प्राचीन स्थान है, जिस समय का गोबेक्ली टेपे (Gobekli Tepe) था। वहां भी कई बड़ी इमारतें, जानवरों और इंसानी खोपड़ी की मूर्तियां और नक्काशियां देखने को मिली थीं। बता दें कि इस स्थान को असल में 1997 में खोजा गया था। लेकिन, तब से लेकर साल 2019 तक यहां पर खनन का काम शुरू नहीं हो पाया था। ज्ञात हो कि, तुर्की से लगातार प्राचीन खोज हो रही है, जो इतिहास से संबंधी नए खुलासे कर रहे हैं।