China again changed its military chief along the border with India
File

    बीजिंग: चीन (China) के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (President Xi Jingping) ने चीनी अंतरिक्ष स्टेशन (Chinese Space Station) में तैनात तीन यात्रियों (Astronauts) से बुधवार को बात की और कहा कि, यह परियोजना देश के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष अन्वेषण कार्यक्रम में ‘मील का पत्थर’ है। चीन के तीन अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर गत बृहस्पतिवार को गोबी मरूस्थल से रवाना होने के कुछ ही घंटों बाद एक चीनी अंतरिक्ष यान देश के निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन पर सफलतापूर्वक पहुंच गया। इस घटनाक्रम को अंतरिक्ष शक्ति बनने की चीन की महत्वाकांक्षी कोशिश में एक बड़ी सफलता के तौर पर देखा जा रहा है।

    चाइना मैन्ड स्पेस एजेंसी (सीएमएसए) के मुताबिक, शेनोझाउ-12 अंतरिक्ष यान गत बृहस्पतिवार को दोपहर में अंतरिक्ष स्टेशन के कोर मॉड्यूल तियान्हे से सफलतापूर्वक जुड़ गया। सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव और पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के प्रमुख शी ने ‘बीजिंग एयरोस्पेस कंट्रोल सेंटर’ से अंतरिक्ष यात्रियों नी हैशेंग, लियू बोमिंग और टैंग होंगबो से बात की। इसका सरकारी टीवी चैनलों पर सीधा प्रसारण किया गया। अंतरिक्ष यात्रियों के साथ पहले प्रत्यक्ष संपर्क में शी ने उनसे पांच मिनट बात की और अंतरिक्ष में उनके योगदान के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। यह दर्शाता है कि चीनी नेतृत्व देश की अंतरिक्ष अन्वेषण परियोजना को कितना महत्व देता है।

    उन्होंने कहा, ‘‘आप अंतरिक्ष में तीन महीने रहेंगे, जबकि अंतरिक्ष में आपका काम और आपका जीवन चीनी लोगों के दिल में रहेगा।” हांगकांग स्थित ‘साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ की खबर के अनुसार, शी ने कहा ‘‘हमारे अपने अंतरिक्ष स्टेशन की स्थापना एक मील का पत्थर है और यह अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग में मानवता के लिए एक महत्वपूर्ण योगदान है।”

    तीनों अंतरिक्ष यात्रियों ने शी को सलामी दी और उन्हें मिल रहे समर्थन के लिए देश को धन्यवाद दिया। तीनों अंतरिक्ष यात्री सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना (सीपीसी) के सदस्य हैं।