जानें विश्व ओजोन दिवस मनाने की वजह और क्या है इसका महत्व

    नई दिल्ली : हर साल 16 सितंबर को विश्व भर में अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस (International Day for the Preservation of the Ozone Layer) मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई है। पृथ्वी के संरक्षण के लिए ओजोन बहुत महत्वपूर्ण है। ओजोन यह एक गैस की नाजुक परत होती है। 

    ओजोन की परत पृथ्वी को सूर्य की किरणों से हानिकारक प्रभाव से बचाने का काम करती है। इस तरह पृथ्वी पर जीवन को संरक्षित करने में ओजोन की परत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती जाती है। चलिए जानते है अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी…….. 

    अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस को सबसे पहले 16 सितंबर 1995 में मनाया गया था। हर साल इस दिवस को एक थीम दी जाती है। उस थीम के तहत इस विशेष दिन को मनाया जाता है। पिछले वर्ष यानी 2020 की थीम  “Ozone for life: 35 years of ozone layer protection” यह थीम थी। 

    अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस का महत्व 

    आपको बता दें कि ओजोन को पृथ्वी की सुरक्षा छतरी कहा जाता है, जो हमारे पृथ्वी की रक्षा करता है। पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए और पर्यावरण का महत्व समझाने के लिए इस दिन को विशेष तौर पर मनाया जाता है। ओजोन पृथ्वी का मानो एक तरह का सुरक्षा कवच है। ओजोन के  को समझते हुए पूरी दुनिया में अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस मनाया जाता है। 

    अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस का इतिहास

    संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा इस अंतरराष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण दिवस को मनाने की घोषणा की गई थी। ओजोन परत की खोज साल 1913 में फ्रांस के भौतिकविदों फैबरी चार्ल्स और हेनरी बुसोन ने की थी। ओजोन गैस की एक परत है, जो पृथ्वी को सूर्य की हानिकारक किरणों से बचाती है। 1987 में बनाये गए मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किये गए थे। तब से इस दिवस को मनाने की शुरुआत हुई है।