Myanmar court jails civilian leader Aung San Suu Kyi for four years
File

    यंगून (म्यांमार): म्यांमार में सेना (Army) के तख्तापलट (Myanmar Coup) के बाद से गंभीर आरोपों में आपराधिक मामले झेल रहीं देश की टॉप नेता आंग सान सू ची की मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं। सोमवार को एक मामले में म्यांमार के एक कोर्ट ने उन्हें चार साल जेल की सजा सुनाई है।

    समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, म्यांमार की एक अदालत ने आंग सान सू ची को सेना के खिलाफ असंतोष भड़काने और कोविड नियमों का उल्लंघन करने के लिए चार साल के लिए जेल की सजा सुनाई है।

    सैन्य शासित म्यांमार (Myanmar) के सबसे बड़े सिविलियन नेताओं में से एक आंग सान सू ची को देश में तख्तापलट के बाद पहले नज़रबंद कर दिया गया था। इसके बाद उनपर कई आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे। उनकी आज़ादी को लेकर म्यांमार के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन भी हुए थे। 

    बता दें कि, देश की पूर्व नेता आंग सान सू ची के खिलाफ लगभग एक दर्जन आपराधिक मामलों में से एक में अपेक्षित फैसले से एक दिन पहले ही देश के अन्य हिस्सों में इसी तरह में रैलियां आयोजित की गई थी। सू ची एक फरवरी के सैन्य तख्तापलट के बाद अपदस्थ हो गईं थीं।