दुनिया का एक ऐसा ‘होटल’ जो आधा फ्रांस में पड़ता है, आधा स्विट्ज़रलैंड में, जानें कैसे

    नई दिल्ली: ये पूरी दुनिया आश्चर्यों से भरी पड़ी है। कुछ बातें तो ऐसी है जिस पर न विश्वास बैठता है और नहीं समझ में आती है और कुछ बातें ऐसी होती है जिससे हंसी रुक नहीं पाती है। आज हम आपको कुछ ऐसी ही अजोबोग़रीब बात बताने जा रहे है। जिसे जानकर आप बेहद हैरान रह जाएंगे। आज हम आपको दुनिया के एक ऐसे होटल के बारे में बताने जा रहे है जो है तो एक ही होटल लेकिन दो देशों में बटा है। आइए जानते है इसके बारे में सबकुछ……

    दो देशों में बटा होटल  ये एक ऐसा होटल है जो एक ही है। लेकिन दो देशों में स्थित है। जी हां हो गए ना कंफ्यूज? दरअसल दोनों देशों में ये एक ही होटल है। इस होटल का नाम ‘अर्बेज फ्रांको-सुइसे’ (Arbez Franco Suisse Hotel) है। ये होटल आधा फ्रांस में पड़ता है और आधा स्विट्ज़रलैंड में आता है। 

    लेटे-लेटे पहुंचे दूसरे देश 

    अब तक आपने दुनिया के कई अनोखे होटल्स के बारे में सुना होगा। हो सकता है कि उनमें से कुछ होटल्स में आप गए भी हों। लेकिन हम जिस अर्बेज होटल की बात कर रहे हैं, उसकी कहानी बाकी होटल्स से बिल्कुल अलग है। आप जानकर हैरान रह जाएंगे लेकिन आपको बता दें कि इस होटल में पड़े-पड़े, यहां तक कि बिस्तर पर लेटे-लेटे आप दो देशों की यात्रा कर लेंगे।

     

    125 साल पुराना होटल 

    आपको बता दें कि यह होटल करीब 125 साल पुराना है। हालांकि यह कोई फाइव स्टार होटल नहीं है, लेकिन इस 2-स्टार की श्रेणी वाले होटल की खासियत जान कई देशों से लोग यहां रहने के लिए आते हैं। आप यहां पहुंचेंगे तो आपसे पूछा जाएगा कि आप किस देश की संस्कृति का आनंद लेना चाहेंगे, फिर आपको इसी अनुसार सुविधाएं दी जाएंगी। 

    एक करवट में दूसरे देश पहुंचे 

    इस होटल के कुछ कमरे ऐसे हैं कि नींद में लेटे-लेटे आप एक देश से दूसरे देश पहुंच जाएंगे। दरअसल ऐसे कमरों में जो बेड लगे हैं, वह दोनों देशों की सीमा रेखा पर बीचो-बीच पड़ते हैं। ऐसे में आधा बेड फ्रांस में तो आधार स्विट्जरलैंड में पड़ता है। अगर इस बेड पर कपल सो रहे हैं तो एक पार्टनर फ्रांस में तो दूसरा स्विट्जरलैंड में आराम कर रहा होता है। 

    अनोखा होटल 

    दरअसल इस अनोखे होटल की सीमा फ्रांस और स्विट्जरलैंड दोनों से लगती है। इस वजह से होटल के 2-2 एड्रेस हैं। एक एड्रेस फ्रांस का और दूसरा स्विट्जरलैंड का। होटल के कमरों को दो बराबर हिस्सों में बांटा गया है। इन कमरों को इस तरह सजाया गया कि आधा हिस्सा फ्रांस में, तो आधा हिस्सा स्विट्जरलैंड में पड़ता है। 

    दोनों देशों की संस्कृति का आनंद 

    इस होटल को दो हिस्सों में बांटने के पीछे एक  है। बता दें कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जब जर्मनी ने फ्रांस पर कब्जा कर लिया था तो उस दौरान फ्रांस के सैनिकों को एक ही भाग में जाने की इजाजत थी। कारण कि होटल का एक हिस्सा स्विट्जरलैंड में भी मौजूद था। बहरहाल इस होटल के संचालन में किसी तरह की दिक्कत नहीं होती। यहां आने वाले लोगों को दोनों देशों की संस्कृति का आनंद मिलता है। तो देर किस बात की आप भी इस होटल में जाएं और दोनों संस्कृतियों का आनंद लें।