महंगाई से बचने के लिए रोटी कम खाएं, चाय में चीनी कम डालें’ : पकिस्तान के मंत्री

    नई दिल्ली.  पाकिस्तान (Pakistan) में महंगाई सिर चढ़कर बोल रही है। चीजों की कीमत अपने चरम पर है जिससे आम जनता त्रस्त है। हालात ऐसे हो गए हैं मुर्गे और मीट (Chicken and Meat) के दाम सातवे आसमान पर है। जिसके चलते पाक प्रधानमंत्री इमरान खान (Pak PM Imran Khan) आवाम के निशाने पर हैं। इस बीच देश के लिए क़ुर्बानी और महंगाई से निपटने के लिए पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर और गिलगिट-बलटिस्तान के संघीय मंत्री अली अमीन गंडापुर (Ali Amin Gandapur) ने लोगों को ‘चाय में चीनी कम डालने और रोटी कम खाने’ की सलाह दी है।

     रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में एक सभा को संबोधित करते हुए गंडापुर ने कहा, “अगर मैं चाय में चीनी के सौ दाने डालता हूँ और नौ दाने कम डाल दूं, तो क्या वह कम मीठी हो जाएगी।” उन्होंने कहा, “क्या हम अपने देश के लिए, अपनी आत्मनिर्भरता के लिए इतनी सी क़ुर्बानी भी नहीं दे सकते? अगर मैं रोटी के सौ निवाले खाता हूँ तो उसमे नौ निवाले कम नहीं कर सकता हूँ?”

    बता दें कि पाकिस्तान के रावलपिंडी (Rawalpindi) में अंडे के दाम 350 रुपए प्रति दर्जन हो चुके हैं। चीनी 81 रुपए/किलो के दाम पर बिक रही है अभी हाल में शिमला मिर्च की कीमत 200 रुपए तक पहुंच गई है। वहीं एक किलो अदरक यहां 1000 रुपए में बिक रही है। साथ ही पिछले दिनों गेहूं के दाम में रिकॉर्डतोड़ स्तर पर बढ़त देखी गई थी। पाकिस्तान में गेहूं 6000 रुपए प्रति कुंतल के हिसाब से बेचा गया था। बढ़ती महंगाई से पाकिस्तान में हाहाकार मचा हुआ है। 

    गौरतलब हो कि इससे पहले 1998 में परमाणु परीक्षण के दौरान तत्काल प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने स्वीकार किया था कि उसे भारत और अमेरिका की तरफ से कड़े आर्थिक प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में उन्होंने खुद पाकिस्तान की जनता को ‘कम खाना खाने’ की सलाह दी थी।