प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    नई दिल्ली: आज का दौर कुछ ऐसा आ गया है जहां हर किसी को अपनी परेशानी की वजह से काफी तकलीफ होती है। कुछ लोग अपनी तकलीफों को आसान बनाने के लिए लोगों से अपने दुःख शेयर करते हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो अपनी बात अपने मन में ही रखे रहते हैं, जिसकी वजह से वह डिप्रेशन (Depression) की शिकार हो जाते हैं। दुनियाभर से ऐसे कई केस सामने आते हैं जहां डिप्रेशन की वजह से लोग खौफनाक कदम उठा लेते हैं। कुछ ऐसा ही एक मामला रूस (Russia) से सामने आया है। जहां महिला डिप्रेशन का शिकार थी और उसने एक ऐसा खौफनाक कदम उठाया कि सुनने वालों की रूह कांप गई। 

    पड़ोसी ने बताया महिला का दर्द 

    ‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, महिला प्रसवोत्तर अवसाद (Postnatal Depression) से जूझ रही थी। अक्सर यह समस्या महिलाओं को जन्म देने के बाद हो जाती है। उस महिला ने अपनी पड़ोसी को भी इस बारे में बताया था। हालांकि, किसी ने नहीं सोचा था कि वो इतना परेशान हो जाएगी कि इतना खतरनाक कदम उठा लेगी। इस महिला का नाम ओल्गा जारकोवा (Olga Zharkova) है, जिसने अपने परिवार के साथ मॉस्को की एक इमारत की 19 वीं मंजिल पर रहती थीं। उस महिला ने यहीं से छलांग लगाकर आत्महत्या (Russian Woman Suicide with Kid) कर ली। 

    Suicide Note भी छोड़ा 

    ओल्गा जारकोवा ने अपने दो बच्चों को बाहों में भरकर बिल्डिंग से छलांग लगाई थी। 190 फीट ऊंचाई से नीचे गिरने से उनकी और उनके तीन साल के दोनों बच्चों की मौत हो गई। आत्महत्या करने से पहले ओल्गा ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है। ओल्गा ने उस नोट में लिखा है कि वह अपने बच्चों को इस जालिम दुनिया में अकेले छोड़कर नहीं जाना चाहती थी, इसलिए वह उन्हें अपने साथ ले जा रही है। महिला ने अपनी पड़ोसी को बताया था कि वह प्रसवोत्तर अवसाद से पीड़ित है। वह खुद को काफी अकेला और थका हुआ महसूस करती है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि शायद इसी वजह से उसने ऐसा कदम उठाया।  

    सदमे में है आर्मी पति 

    महिला का पति आर्मी अफसर है। फ़िलहाल इस दर्दनाक हादसे के बाद से वह सदमे में चला गया है। उसने एक ही समय में अपना पूरा परिवार खो दिया है। पुलिस ने बताया कि फिलहाल मृतका के सैन्य अधिकारी पति का बयान लेना अभी बाकी है। ऐसे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है।