In 2021, Russia-India will continue to work towards cooperation: Putin

    नई दिल्ली: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज कुछ घंटों के लिए भारत दौरे पर आ रहे हैं। पुतिन का यह दौरा कई मायनों में बेहद खास है। रुसी राष्ट्रपति ने अपने दौरे से साफ संदेश देने की कोशिश की है कि वह भारत के साथ अपने संबंधों को कितनी एहमियत देते हैं। करीब दो साल से पुतिन रूस से बाहर नहीं गए हैं। उन्होंने  जी-20 और COP26 जैसे वैश्विक सम्मेलनों से भी दूरी बनाई थी। लेकिन जैसे ही भारत की बात हुई तो वह तैयार हो गए। 

    वहीं इससे पहले रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 16 जून को कुछ देर के लिए जेनेवा अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से मिलने गए थे। रुसी राष्ट्रपति के भारत दौरे से दोनों देशों के बीच कूटनीति और सामरिक संबंधों का नया आगाज होगा। पुतिन का विमान दोपहर बाद दिल्ली के पालमपुर एयरपोर्ट पर उतरेगा। शाम पांच बजे हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और पुतिन की मुलाकात होगी। 

    वहीं इस दौरे के दौरान कई मसलों पर चर्चा होने वाली है। जिसमें 7.5 लाख एके-203 असॉल्ट राइफल्स का भारत में उत्पादन करने भी बात होगी। साथ ही S-400 मिसाइल सिस्टम की समय पर डिलीवरी को लेकर चर्चा होगी। भारत-चीन तनाव, अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी, आतंकवाद सहित कई मुद्दों पर पुतिन-मोदी बात करेंगे।  

    गौर हो कि कोरोना संकट के बीच दोनों नेताओं की मुलाकात को लेकर खास एहतियात बरतें जा रहे हैं। दोनों की मुलाकात के दौरान बहुत ही छोटे डेलिगेशन को मौजूद रहने दिया जाएगा। मोदी-पुतिन की मुलाकात के बाद एक जॉइंट बयान जारी किया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी रुसी राष्ट्रपति के सम्मान में हैदराबाद हाउस में एक डिनर भी देंगे। फिर रात 9.30 बजे पुतिन रूस के लिए रवाना हो जाएंगे।