Crime

  • मोबाइल लोकेशन पर संदिग्ध पकड़ाया

दिग्रस. दिग्रस पुलिस ने शहर के पालेश्वर मंदिर के निकट पदमावार कॉलनी में जलसंधार अधिकारी कालीदास पवार के घर सोने चांदी के गहने तथा नकद राशि मिलाकर 7 लाख रुपयों की चोरी का मामला कुछ घंटों के भीतर निपटाते हुए इसके संदिग्ध आरोपी को कब्जे में ले लिया. पदवार के घर चोरी की यह घटना के बाद दिग्रस पुलिस थाने में चोरी की शिकायत दर्ज की थी. जिसमें सोने चांदी के गहने और नकद राशि चोरी जाने और इसके संदिग्ध की जानकारी पुलिस को दी गई थी.

जिससे तत्काल जांच करते हुए दिग्रस पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर संदिग्ध आरोपी जय श्रावण राठोड (23) निवासी रामगाव डोर्ली तहसील दिग्रस को कब्जे में लेकर उससे पूछताछ करते हुए चोरी का सुराग लगाया. आज न्यायालय में पेश किया. कारवाई को दिग्रस के थानेदार सोनाजी आमले के मार्गदर्शन में एपीआई बिलावल और उनके दस्ते ने अंजाम दिया. एपीआई बिलावल ने अपने कार्यकाल में चोरी की घटनाओं का सुराग लगाने के अनुभवों का इस्तेमाल कर केवल 5 घंटों में इसका सुराग लगा लिया.

थानेदार सोनाजी आमले ने संदिग्ध को ध्यान में लेकर उसके ठेकेदार का मोबाइल से जय राठोड से संपर्क कर उसे अपने घर में कलरिंग करने की बात कर उससे मिलने की बात कही, तब उसने खुद के मानोरा में होने की जानकार देकर कहा की मैं कल आएंगा, किंतु वह गांव में रहने के बाद मानोरा कैसे पहुंच गया.

इस पर संदेह आने पर थानेदार ने एपीआई बिलावकर को मोबाईल नंबर देकर उसका लोकेशन ट्रेस किया तब वह दिग्रस से विरुध्द दिशा में अरुणावती बांध की ओर उसका लोकेशन पाया गया. थानेदार सोनाजी आम्ले के मार्गदर्शन में एपीआई धीरेंद्रसिंह बिलावल ने अभ्यासंपूर्ण कार्रवाई से चोरी की घटना कुछ घंटों में ही उजागर करने से उनकी सराहना की जा रही है.