yavatmal apmc
File Photo

यवतमाल. कुछ दिन से बारीश का अंदाजा होने के कारण कृषि उपज बाजार समिति नेर की ओर से 28 नवंबर से लगातार तीन दिन तक खरीदी बंद रहेगी. ऐसी सुचना उन्होने व्यापारी दलाल और किसानों को आज जारी की है. आज कृषि उपज बाजार समिति में इस वजह से किसानों ने भीड की. तीन दिन मार्केट बंद होने के कारण बाजार में सोयाबीन की आवक बढ गई.

कल 26 तारीख को रेकार्ड ब्रेक सोयाबीन खरीदी हुई. कारंजा का मार्केट दोपहर को बंद कर दिया. कारंजा मार्केट के गेट के सामने सोयाबीन के ढेर लगा दिए. शेड के बाहर सोयाबीन होने के कारण बारीश आने के बाद भीगने का खतरा हो सकता है. इस वजह से 28 नवंबर से 30 नवंबर तक बाजार समिति बंद रखने का फैसला बाजार समिति के व्यवस्थापन प्रशासन ने लिया. लॉकडाउन का डर किसानों को लगा है. तथा आयातशुल्क की कपात करने का निर्णय केंद्र सरकार ने लिया है.

इस वजह से बाजार समिति में खलबली मची है. तथा चीन ने सोयाबीन का साठा बढाया है. साठेबाजी की वजह से कृषि तज्ञों ने किसानों ने अपना 30 फिसदी माल बेचने को निकालने की सलाह दी है. इसका असर भी किसानों पर पडा है. आगे सोयाबीन के दामों में तेजी आने की संभावना नही ऐसा भी अंदाजा तज्ञों ने लगाया है. आज नेर बाजार समिति में सोयाबिन 4315 रू. प्रतिक्विंटल मुल्य से खरीदा गया तथा कम से कम मुल्य 3380 रू. इतने थे. तथा कारंजा बाजार समिति में अनाज की आवक बढी. चना के मुल्य 3600 से 5100रू., तुअर 5500 रू. से 6000 रू. उडद 5600 रू., 6 हजार 100 रू. मुग 5 हजार रू. से 6290, गेहु 1470 से 1800 रू. ज्वार 1200 रू. से 1400 रू. में खरीदे गए.