पंस परिसर में आत्मदाह का प्रयास, ग्रामसेवक की ओर से जानकारी देने की गई टालमटोल

    पुसद. बोरगड़ी ग्रापं की सदस्य सीमा खडसे निवासी बोरगड़ी के घर में शौचालय नहीं है. ग्रापं सदस्य ने चुनाव आयोग को गलत जानकारी दी थी. जब इसके बारे में सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी गई तो ग्रामसेवक की ओर से जानकारी देने की बजाए उसे टालमटोल किया गया है. ग्रापं की ओर से जानकारी देने में किए गए टालमटोल से परेशान होकर शुक्रवार पंस परिसर मे ओमप्रकाश शिंदें ने आत्मदाह का प्रयास किया है. 

    आवेदन संतोष राजारामजी भालेराव, बाबासाहब किशोर शिंदे, ओमप्रकाश केशवराव शिंदे, निवासी बोरगडी ने दिया था, किंतु सचिव ने आवेदक को जानकारी देने से इनकार कर दिया. बोरगडी ग्राम पंचायत के पैनल प्रमुख ओमप्रकाश शिंदे ने पंस के वरिष्ठों से संपर्क कर देरी की सूचना देने का अनुरोध किया. सचिव ने समूह विकास अधिकारी से मार्गदर्शन मांगा.

    तब से 12 दिन बीत चुके हैं. पंचायत समिति हॉल के सामने शरीर पर मिट्टी का तेल डालकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. सहायक समूह विकास अधिकारी ने ओमप्रकाश शिंदे को तुरंत 5 सदस्यीय समिति नियुक्त करके पंचनामा करके रिपोर्ट पेश करने का का आश्वासन दिया. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे की भी बात कही. इससे इलाके में हड़कंप मच गया है.

    जब तक न्याय नहीं मिलता जारी रहेगा आंदोलन

    लोकतंत्र में सूचना के अधिकार अंतर्गत जानकारी मांगना अपराध नहीं है. सरकार के नियमों के अनुसार सूचना जानकारी देना बंधनकारक है. मुझे जानकारी मिली नहीं इसलिए मैंने यह प्रकार किया है. वास्तव में सचिव ने तत्काल जानकारी दी होती तो यह समय नहीं आता. इसलिए जब तक मुझे न्याय मिलता नहीं तब तक लोकतंत्र के मार्ग से आंदोलन किया जाएगा.

    ओमकार शिंदे 

    आरटीआई कार्यकर्ता, पुसद