संत सेवालाल महाराज का अधिकृत स्मृतिदिवस शीघ्र घोषीत करेंगे : पोहरागड मठाधिश बाबुसिंग महाराज

  • पोहरागड में कर्मियों से की बातचित

पुसद. जिनके सामाजिक कार्य की दखल लेकर कर्नाटक सरकार ने डाक्टरेट पदवी बहाल की ऐसे मानवतावादी संत डा. रामराव महाराज के निधन के पश्चात पहलीबार जिले के बाहर के कर्मियों ने ,अखिल भारतीय तांडा सुधार समिति के स्थानिय पदाधिकारीयों समेत नामा बंजारा/जाधव के  नेतृत्व में  पोहरागड में श्रध्दांजलीपर भेट दी.

इस समय मठाधिश बाबुसिंग महाराज समेत उनकी चर्चा हुई. बिना सहयोग नही उद्धार इस तत्व से समाज के विविध संगठनों में सहयोग की भावना निर्माण होने की जरूरत है. समाज में गलत रिवाज,अंधश्रद्धा, दहेज पद्धति में बदलाव की जरूरत है. इसके लिए बापु के पश्चात मठाधीश बाबुसिंग महाराज आगे आए और आधुनिक मुल्य पर आधारित समाजरचना निर्माण करे. इसके लिए कर्मचारी और विविध संगठनों द्वारा अखिल भारतीय तांडा सुधार समिति के लेटर हेड पर लिखीत ज्ञापन सौपा गया. संत सेवालाल महाराज यह अखिल विश्व के सभी समाज के  वैचारिक एवं सामाजिक उगमस्रोत है.

उनकी जयंति कार्यक्रम की तरह उनका स्मृतिदिवस पर भी प्रबोधन हो इसके लिए संत सेवालाल महाराज का स्मृर्तीदिन पोहरागड संस्थांन की ओर से अधिकृत घोषित करे ऐसी बिनती नामा जाधव ने की. मानोरा तहसील के गव्हा में पुतले की अनावरण विना हो रही दुर्दशा नष्ट करने के लिए बाबुसिंग महाराज के मार्गदर्शन में अरुण राठोड पटवारी, प्राचार्य टी.व्ही.चव्हाण, अनिल राठोड, प्रा. जय चव्हाण और नीलकंठ राठोड की एक समिति का गठन किया गया. संजय महाराज ने मठाधिश से चर्चा कर पोहरागड  समाज को  प्रगति की दिशा में ले जाने का प्रतिपादन किया. इससमय किसान नेता मनोहर राठोड, प्रा. वसंत राठोड, एड. बाला राठोड, पृथ्वी चव्हाण, धर्मराज आडे, ज्ञानेश्वर चव्हाण, प्रकाश राठोड, अनिल राठोड आदि उपस्थित थे. मठाधीश बाबूसिंग महाराज ने उपस्थितों को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही संत सेवालाल महाराज का स्मृतिदिन घोषित किया जाएगा.