सभी धर्मियों के बाबा कम्बलपोश दरगाह शरीफ श्रद्धालुओं के लिए खुले

आर्णी. राज्य के मंदिर सहित सभी धर्मियों के प्रार्थनास्थल पूजा और दर्शन के लिए खुले किए गए है. इसी तर्ज पर आर्णी के सभी भक्तों से परिचित बाबा कंबलपोश दरगाह शरीफ और किसन  उर्फ सैय्यदी बच्चूबाबा दर्गाह शरीफ कोरोना की पृष्ठिभूमि पर महामारी को फैलने से रोकने के लिए पिछले कई महिनों से बंद थे, अब लगभब 239 दिनों  के बाद श्रध्दालुओं के लिए नियम एवं शर्तो का पालन करते हुए 16 नवंबर की सुबह 5 बजे से खोले गए हैं.

कोरोना महामारी से 22 मार्च 2020 से 15 नवंबर तक बाबा दर्गाह शरीफ बंद थे. अब इसे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है. जिसमें केवल 5 लोगों को ही बाबा के दर्शन करने की अनुमति है. साथ ही हैंडवाश, हैंडग्लोव्स का उपयोग करना, मास्क, थर्मलगन से बॉडी टेंपरेचर की जांच, 60 साल से अधिक और 10 साल से कम उम्र के बच्चों को दरगाह शरीफ के बाहर गेट से दर्शन लेने होंगे. ऐसी जानकारी बाबा कंबलपोश दरगाह शरीफ के प्रशासन ने दी है. ट्रस्ट और दरगाह शरीफ प्रशासन के साथ सहयोग के लिए एक नोटिस बोर्ड भी यहां लगाया गया है. श्रद्धालू बाबा कंबलपोश और किसन उर्फ सोयद्दी बच्चूबाबा इस समाधी स्थल का लाभ उठा रहे हैं.

दर्शन के लिए श्रद्धालू अनुशासन का पालन कर रहे है. प्रशासन के नियम का पालन करते हुए केवल 5 व्यक्तियों को बाबा कंबलपोश और किसन उर्फ सैय्यदी बच्चूबाबा  समाधी स्थल प्रवेश दिया जा रहा है. दरगाह परिसर में हाथपांव धोने की व्यवस्था की गई है, यहां क्लोरोक्विन का भी छिड़काव किया जा रहा है.