File Photo
File Photo

यवतमाल. मानसून के दौरान जिले में होनेवाली अतिवृष्टि, बाढ़ की स्थिति, अचानक आने वाली आपत्ति आदि समेत विविध विभागों द्वारा की गई तैयारियों का जिलाधिकारी एम. डी. सिंह ने जायजा लिया. इस दौरान विविध उपाययोजनाओं पर मंथन किया गया.

तहसील स्तर पर हों बैठकें
जिलाधिकारी ने विविध विभाग के मानसून पूर्व प्रगति की समीक्षा की. नियोजन सभागृह में हुई सभा में जिप के सीईओ जलज शर्मा, जिला पुलिस अधीक्षक एम. राजकुमार, अपर पुलिस अधीक्षक नरुल हसन, निवासी उपजिलाधिकारी ललितकुमार व-हाडे आदि उपस्थित थे. इस समय जिलाधिकारी कहा कि तहसील स्तर पर समिति द्वारा तुरंत मानसून पूर्व सभाओं का आयोजन किया जाए. सरकारी निर्देशानुसार मानक कार्यपध्दति के अनुसार (एसओपी) पर अमल करें.

जल्द शुरू हो सफाई
सभी नगर पालिका एवं ग्रामीण क्षेत्र के छोटे-बड़े नाले, बस्तियों की नालियों की सफाई, बिजली के खंभे, ट्रान्सफार्मर पर जो पेड़ की टहनियां आ रही उसे तोड़ें जिससे बिजली आपूर्ती खंडित ना हो, साथ ही ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में रास्तों पर जहां जरूरत है वहां के गड्ढे बुझाएं, स्वास्थ्य विभाग अपनी तैयारी रखे आदि सुचनाएं जिलाधिकारी ने दी.

सभा में जिला शल्य चिकत्सिक डा. तरंगतुषार वारे, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. बालासाहेब चव्हाण, प्रभारी जिला आपुर्ति अधिकारी श्रीकांत देशपांडे, पालिका प्रशासन अधिकारी शशीमोहन नंदा, बिजली विभाग के अधक्षिक अभियंता सुरेश मडावी, सा.बा.विभाग के कार्यकारी अभियंता चंद्रकांत मरपल्लीकर, जिला आपत्ती व्यवस्थापन अधिकारी सतीश मून, पशुसंवर्धन उपायुक्त डा. रामटेके समेत सिंचाई एवं पाटबंधारे विभाग के कार्यकारी अभियंता, विविध विभाग के अधिकारी उपस्थित थे.