महंगाई के खिलाफ बसपा का आंदोलन, ज्योतिबा फुले के पुतले के सामने किया प्रदर्शन

    यवतमाल. कोरोना महामारी के संक्रमण से उभरे संकट में आमजनों की आर्थिक स्थित बिगड़ गई है. बढ़ते महंगाई व लाकडाउन के अनियमित व्यवस्था से जनता बेहाल हो गई है. त्रस्त हुए नागरिकों को न्याय दिलाने बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश सचिव व राजेंद्र कांबले के नेतृत्व में आजाद मैदान स्थित ज्योतिबा फुले के पुतले के सामने 1 दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया. आंदोलन सरकार के नियमों के अनुसार किया गया था. इस आंदोलन की प्रमुख मांगों का ज्ञापन जिलाधिकारी को दिया गया. 

    यह है मांगें

    विविध मांगों में अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के कर्मचारियों की पदोन्नति के लिए आरक्षण पूर्ववत करने, ओबीसी के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाए बिना मराठा समुदाय को आरक्षण देने, ओबीसी का राजनीतिक आरक्षण पूर्ववत करने, किसानों के माल को उचित गारंटीमूल्य देने, घरेलू गैस सिलेंडर के दाम कम करने, बढ़ती महंगाई पर अंकुश लगाने, कोरोना से प्रभावित आम नागरिकों के बिजली बिल माफ करने,  परिवार की मृत्यु कोविड के कारण हुई है, उसके परिजनों को तत्काल आर्थिक सहायता देने आदि मांगों का समावेश है. 

    बहुजन समाज पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष सुनील पुनवटकर, जिला उपाध्यक्ष राजा देशमुख, महासचिव एड. प्रशांत इंगोले कोषाध्यक्ष धनराज धवने के साथ वरिष्ठ कार्यकर्ता प्रोफेसर वासुदेवराव शेंद्रे, जगदीश पाटिल, या. वा. तलवारे, मोहन नाइक, एड. सुनील घोडेस्वार, महेंद्र ढेपे, हेमंत सुखदेवे, दिलीप गणवीर, सुनील रामटेके, महेंद्र थुल, कविश्वर भगत, देवेंद्र गणवीर, सुरेश बडवाइक, राजेश रोहिले, पुंडलिक काले, राहुल गुढे, रत्नपाल वाघमारे, संतोष मेश्राम, यशवंत मसारकर, किशोर खरतडे, रवि खोब्रागडे, कैलासराव ढोके, सविता भोवते, सुनील तांबे, अनिल तामगडे, गजानन गोडवे सहित अन्य कार्यकर्ता बड़ी संख्या में उपस्थित थे.