Farmer Suicide
File Photo

  • जिलाधिकारी की अपील

यवतमाल. किसान आत्महत्याग्रस्त किसानों के परिवारों के लिए कृषि व्यवसाय की मदद करने के लिए जिलाधिकारी एम. देवेंद्र सिंह की  ‘मिशन उभारी’ की अवधारणा एक अभिनव परियोजना है. घर के समर्थन के चले जाने के बाद, ऐसे परिवारों के उदरनिर्वाह के लिए गाय, भैंस, बकरियों का वितरण एवं सिंचाई के लिए कुओं का लाभ दिया जाता हैं. जैसा कि इसके लिए निधि की आवश्यकता होती है, जिले की विभिन्न कंपनियों और बैंकों को सामाजिक दायित्व निधि (सीएसआर) से इन परिवारों की मदद करनी चाहिए, ऐसा आवाह‍्न जिलाधिकारी एम. डी. सिंह ने किया है.

वे जिलाधिकारी कार्यालय में आयोजित बैठक में बोल रहे थे. इस समय, मेडिकल कॉलेज के डीन डा. मिलिंद कांबले, आरडीसी ललित कुमार व-हाडे, जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक अमर गजभिए, जिला पशुपालन अधिकारी आर. डब्ल्यू खेरड़े भी उपस्थित थे.

जिलाधिकारी ने हर हफ्ते किसान आत्महत्या के मामलों की समीक्षा की, जिलाधिकारी ने कहा कि किसान परिवारों को अवसाद से बाहर निकालने के लिए पहल की गई है. घर का आधार छूट जाने पर परिवारों को कई समस्याओं से जूझना पड़ता है. इसलिए, निर्वाह खेती के साधनों को प्राप्त करने के लिए, खेतों, गाय-भैंसों, बकरी के झुंडों को सिंचाई के कुएं प्रदान करने की योजना है. लगभग 30 परिवारों ने समीक्षा के दौरान ऐसी मांग की है. अगर कंपनियां और बैंक इसके लिए आगे आते हैं, तो इन परिवारों को बकरी, गाय और भैंस वितरित की जा सकती हैं.

सीएसआर फंडिंग के लिए जिला स्तर पर एक समिति का गठन किया गया है. इसके लिए कंपनियां या बैंक उनके नाम और लोगो का उपयोग कर आत्महत्याग्रस्त परिवारों के लिए गाय, भैंस, बकरी खरीदी करके दे सकती है. इस उपक्रम की कंपनियां या बैंकों को अपनी वार्षिक रिपोर्ट में इस पर ध्यान भी दे सकते हैं. प्रशासन हमेशा सभी का सहयोग करता रहा है. इसलिए, कंपनियों और बैंकों को अब ‘मिशन उभारी’ के लिए प्रशासन के साथ सहयोग करना चाहिए, ऐसा जिलाधिकारी ने कहा. इस अवसर पर वेस्टर्न कोल्डफीड, एसीसी सीमेंट सहित विभिन्न कंपनियों और बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे.

सर्वश्रेष्ठ उधारदाताओं को सम्मानित किया गया: 

खरीफ सीजन 2020 में सबसे अच्छा ऋण देने वाले बैंकों को जिला जिलाधिकारी द्वारा सम्मानित किया गया. इसमें कॉर्पोरेशन बैंक, एक्सिस बैंक, जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक के प्रतिनिधि शामिल थे. पिछले साल जिले में 73 प्रतिशत फसली ऋण वितरित किए गए थे और आने वाले खरीफ सीजन में, 80 प्रतिशत से अधिक फसली ऋण वितरित किए जाने चाहिए, जिलाधिकारी ने ऐसा सूचित किया.