Bhavna Gawali

  • सांसद भावना गवली ने किसानों से आवाह‍्न

यवतमाल.  यवतमाल जिले में भारी बारिश और वापसी बारिश ने इस साल किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है. कपास पर बोंडइल्ली का हमला होने से किसानों के हाथ से फसल चली गई. इस बीच, सांसद भावनाताई गवली ने किसानों से फसल बीमा सहायता प्राप्त करने के लिए कृषि विभाग से शिकायत करने की अपील की है.

यवतमाल जिले में औसतन 9 लाख हेक्टेयर में खरीफ की फसल उगाई जाती है. इस वर्ष भी खरीफ की फसलें 8 लाख 97 हजार 370 हेक्टेयर पर लगाई गई हैं. यवतमाल जिले में 4 लाख 67 हजार 21 किसानों ने विभिन्न फसलों के लिए बीमा कराया. 1 लाख 97 हजार 252 किसानों ने सोयाबीन की फसल के लिए फसल बीमा कराया और कपास की फसल के लिए 1 लाख 06 हजार 591 किसानों ने फसल बीमा कराया. इस साल यवतमाल जिले में लगातार बारिश हुई थी. इससे कपास के साथ-साथ सोयाबीन को भी काफी नुकसान हुआ. कपास के बोंड काली हो गईं. पत्ते झड़ गए. यही नहीं, कपास पर बड़ी संख्या में बोंडइल्ली द्वारा हमला किया गया है. जब आप प्रत्येक कपास के बोंड को देखते हैं तो इसमें कपास की जगह इल्लियां निकल रही थी. कई किसानों ने खेतों की जुताई शुरू कर दी है क्योंकि कपास के पौधे को खिलाने में कोई लाभ नहीं है. अधिकांश किसानों को कपास का शुरुआती उत्पादन मिला है. हालांकि, इसके बाद, उन्हें बोंडइल्ली के प्रकोप से भारी नुकसान सहन करना पड़ा. सांसद भावनाताई गवली ने भारी बारिश और बेमौसम बारिश के कारण फसल बीमा लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों से कृषि विभाग से शिकायत करने की अपील की है. 

यवतमाल जिले में इस साल 2 लाख 81 हजार 673 हेक्टेयर में सोयाबीन लगाया गया था. 4 लाख 65 हजार 562 हेक्टेयर पर कपास लगाया गया था. इसके अलावा, 8 लाख 97 हजार 370 हेक्टेयर पर विभिन्न अन्य फसलें लगाई गई थी. वर्तमान में, सबसे अधिक कपास की खेती पर बड़ी संख्या में गुलाबी बोंडइल्ली के प्रकोप हुआ, जिससे किसानों को भारी नुकसान हुआ है. कुछ स्थानों पर किसानों ने खेतों में मवेशी चराने के लिए छोड दिए. खरीफ सीजन में महंगे बीज खरीदकर कडी मेहनत से फसल की बुआई कर कपास की फसल बडे पैमाने बोंडइल्ली के हमले से सारी फसल किसानों के हाथ से चली गई. कपास उत्पादक किसान हताश हो गया है. यवतमाल-वाशिम निर्वाचन क्षेत्र के सांसद भावनाताई गवली ने किसानों से अपील की है कि वे जिला और तालुका स्तर के कृषि विभागों में जाएं और फसल बीमा के लिए आवेदन करें ताकि नुकसान का मुआवजा पाने में आसानी होगी.

शिकायतें करने की जरूरत है

यह अक्सर पाया गया है कि नुकसान के बावजूद किसान शिकायत नहीं करते हैं. परिणामस्वरूप, फसल बीमा कंपनियां नियमों सामने रखकर फसल बीमे का लाभ देने में टालमटोल करते है. किसानों को भी नियमों के अधीन होना चाहिए और सुझाव के अनुसार तत्काल शिकायत करनी चाहिए. अब भी किसानों को नुकसान के बारे में कृषि विभाग से शिकायत करनी है, हम उन्हें मुआवजा दिलाने की कोशिश कर रहे हैं. 

यवतमाल जिले में भारी बारिश और वापसी बारिश ने इस साल किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है. कपास पर बोंडइल्ली का हमला होने से किसानों के हाथ से फसल चली गई. इस बीच, सांसद भावनाताई गवली ने किसानों से फसल बीमा सहायता प्राप्त करने के लिए कृषि विभाग से शिकायत करने की अपील की है.