अधूरे नालियों के निर्माण से रास्तों पर जमा ड्रेनेज का पानी

  • नगर पालीका की अनदेखी, नागरिकों के स्वास्थ्य को खतरा

यवतमाल. स्थानीय गणेश नगर के अधूरे नाली के निर्माण की वजह से ड्रेनेज के गंदे पानी की समस्या निर्माण हो गई, जिससे यह गंदा पानी सडकों जमा रहता है, इस मार्ग से पैदल, वाहन से यातायात करनेवाले नागरिकों त्रासदी का सामना करना पड रहा है, साथ ही दुर्गंधी से स्वास्थ्य को खतरा होने की संभावना निर्माण हो गई. इस समस्या को लेकर बार-बार नगर प्रशासन ज्ञापन देकर सूचित किया, फिर भी नगर परिषद की अनदेखी हों रही है. कोरोना महामारी के दौरान नागरिकों के स्वास्थ्य से खिलवाड करने की काम पालीका प्रशासन ने करने का आरोप नागरिकों ने किया है.

नगरपालीका की लापरवाहीपूर्ण नीति के कारण महामारी के दौरान नागरिकों के स्वास्थ्य का मुद्दा सामने आया है. गणेश नगर के नागरिकों ने बार-बार संबंध में नगरपालिका प्रशासन को ज्ञापन सौंपा, लेकिन नगर पालीका प्रशासन गंभीर दिखाई नहीं देता. जिससे नागरिकों में नाराजगी छाई हुई है. गणेश नगर के वार्ड क्र. 22 के सर्विस गल्ली में नाली का अधूरा निर्माणकार्य किया गया है. जिससे ड्रनेज का गंदा पानी थमा रहने से नागरिकों को विविध बिमारियों का सामना करना पडा है. इस गल्ली में ग्रामपंचायत द्वारा नाली का निर्माण किया गया यह जिसका काम अधूरा रखने से नागरिकों में असंतोष पनप रहा है. इस क्षेत्र में बडी संख्या में निवास करते है. लेकिन किसी भी पार्टी को राजनीतिक लाभ नहीं होने से इस ओर कोई ध्यान देने का तैयार ही नहीं है. फलस्वरूप कोरोना महामारी के दौरान नागरिकों को विविध संकटों का सामना करना पड रहा है. अधूरी नाली से गंदा पानी और मच्छरों के प्रकोप से नागरिकों को विविध बिमारियों का सामना करना पड रहा है. इससे पहले 2016 में भी नगरपालीका प्रशासन को नागरिकों ने निवेदन दिया था, लेकिन इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया. बारीश के मौसम में बाढ का पानी लोगों के घरों में घुस रहा है, जिससे परिसर क्षेत्र के राजू आडे से राठी के घर तक तीन सौ मीटर नाली का निर्माण कर आगे आनेवाली नाली से जोडने की मांग ज्ञापन से की है. ज्ञापन पर  संतोष सोनकुसरे, ए.एल. बेलुकार, प्रदिप चौधरी, अनिता चौधरी, संगीता पेंदाम, दिपक काले, वंदना चिमुरकर आदिं ने हस्ताक्षर किए है.

नाली के अधूरे निर्माण कार्य से क्षेत्र में गंदे पानी निकासी की समस्या निर्माण हो गई, जिसका  नागरिकों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है. इस समस्या को लेकर नगर पालिका को बार-बार ज्ञापन दिए. हालांकि, काम पूरा नहीं हुआ. नगरपालिका को सहानुभूतिपूर्वक सोचना चाहिए.

– मदन मिश्रा, नागरिक

सर्विस गल्लियों में कई लोगों ने अतिक्रमण कर शौचालय का निर्माण किया है. और अक्सर मैंने जेसीपी भेजकर काम करने का प्रयास किया, लेकिन नागरिकों ने काम नहीं करने दिया. जिससे ड्रेनेज का गंदा पानी कहां जाएगा? नागरिकों संगठित होकर हमें सहयोग किया तो हमे दो दिनों में यह समस्या हल करने का प्रयास करेंगे.

दिनेश चिंडाले, पार्षद

गणेश नगर में नप की ओर से किया गया नाली के निर्माण में कमी रही तो जल्दी प्रशासन पूरा करेगी, तथा नप के निर्माण विभाग को निर्देश दिए जाएंगे. ऐसी जानकारी नप मुख्याधिकारी, सुनील बल्लाल ने दी.