आठ माह बाद खुली स्कूलों की तालाबंदी, 9472 छात्रों में से मात्र 650 ने लगाई हाजिरी

  • दुसरे दीन चहल-पहल के साथ रौनक दिखी

वणी. लगभग आठ माह की तालाबंदी बाद सोमवार 23 नवंबर से तहसील  मे आखिरकार नौवी से बारहवी कक्षा के स्कूलो के ताले खुल गए. पहले दिन 52 मे से 38 स्कूल शुरू हुए तथा उपस्थिति केवल 7 प्रतिशत रही. 14 स्कूल विभिन्न वजह से नही खोले जा सके. सूत्रो ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देश पर जिलाधिकारी के लिये गए निर्णय के अनुसार ग्रामीण इलाके मे नौवी से बारहवी कक्षा तक के स्कूल व जूनियर कॉलेज शुरू हुए.  सोमवार तक जिन शिक्षको की कोरोना जांच रिपोर्ट नही आई थी.ऐसे शिक्षको को शिक्षा विभाग ने स्कूल आने से मना कर दिया था. संभावना है कि मंगलवार तक अधिकांश शिक्षको की कोरोना परीक्षण रिपोर्ट आ जाएगी. इसके बाद आज न खोले जा सके स्कूल भी खोल दिए जाएंगे. गुटशिक्षाधिकारी आंबटकर ने बताया की अधिकतर शिक्षको ने  कोरोना परीक्षण करवाकर जॉइन कर लिया है.

चहल-पहल के साथ रौनक

 करीब आठ माह बाद स्कूल खुले तो दुसरे दीन चहल-पहल के साथ रौनक दिखी. लंबे समय बाद मिलने पर भी कोरोना की वजह से एक दूसरे के गले नहीं लगे. सिर्फ नमस्कार कर एक दूसरे का हाल जाना. छात्रो के चेहरे पर खुशी दिखी. छात्रो को सैनिटाइज करने व जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए कक्षाओ मे बैठाया गया.

साफसफाई की ओर विशेष ध्यान

कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए मार्च के तीसरे सप्ताह मे स्कूल बंद कर दिए गए थे. इससे घर पर ही छात्रो को पढ़ाई करनी पड़ रही थी. इससे पढ़ाई प्रभावित हो रही थी. छात्रों के भविष्य को ध्यान पर रखकर सोमवार को कक्षा 9 वी से 12वीं  के स्कूल खुल गए. स्कूलो मे साफ सफाई व्यवस्था के साथ ही कक्षा कक्षो को पूर्ण सैनिटाइज, हाथ धोने की समुचित व्यवस्था, सैनिटाइजर, गेट पर स्क्रीनिग रखने सहित अन्य व्यावस्थाएं की गई .