बुजुर्गों की जीत, कोरोना की हार

आर्णी. विश्व में कोरोना महामारी का प्रकोप हुआ है. इस महामारी ने अपने देश में भी पैर पसार लिए है. इस बिमारी ने कईयों की जान ले ली है. कईयों की रोगप्रतिकार शक्ति भी दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है, ऐसे में आर्णी तहसील के उमरी पठार के वृद्धाश्रम के वृद्ध मंडली ने अपने प्रतिभा व प्रतिकार क्षमता के बलबुते पर कर रहें है. श्री दोला महाराज वृद्धाश्रम इसे अपवाद रहा है. इस वृद्धाश्रम में 113 महिला- पुरुष रहती है. हालांकि वृद्धावस्था से कुछ वृद्ध बहोत थके हुए हैं, इस महामारी में कोरोना को वृद्धाश्रम से कोसों दूर कर दिया है, यह बात तहसील के महत्वपूर्ण साबित हुई है. ग्रामीण क्षेत्रों में बुजुर्ग लोग आज विभिन्न बीमारियों से पीडित हैं और उन बीमारियों से मर जाते है. उल्लेखनिय कोरोना को हराकर इन वृद्ध ने जीत हासिल करने का चित्र स्पष्ट दिखाई दे रहा है. वृद्धाश्रम की मंडली आज भी सुबह से लेकर शाम तक व्यायाम, योगा व नियमित आहार लेते है. इस वृद्धाश्रम की चर्चा परिसर में बडे पैमाने में दिख रहीं है.

आश्रम को हर सुबह साफ किया जाता है और सुबह सभी वृद्ध लोग स्नान करने के बाद, उनके स्वास्थ्य का भी ध्यान रखा जाता है. उल्लेखनिय है कि वृद्धाश्रम में सैनिटाइजर मशीन होने से सभी को इस बिमारी से दूर रखने की विविध सुविधा उपलब्ध कराई गई है. अबतक वृद्धाश्रम का एक भी बुजुर्ग कोरोनाग्रस्त नहीं हुआ, इस दौर में सभी स्वास्थ्य उत्तम है. ऐसी जानकारी संत दोला महाराज वृद्धाश्रम उमरी पठार के सचिव शेषराव डोंगरे ने दी.