Young woman victim of online fraud, cheated on Rs 38,138 for buying a car from OLX

  • आनलाइन धोखाधड़ी की घटनाएं बढ़ी

यवतमाल. आनलाइन धोखाधड़ी की घटनाओं में काफी इजाफा हो गया है. धोखाधड़ी करने के लिए ठगों की ओर से कई तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. इसके पहले सिम बंद पड़ेगा, एटीएम लॉक हो जायेगा बताकर ठगों द्वारा बैंक की जानकारी ली जाती थी, बाद में सभी पैसे निकाले जाते थे. अब ठगों ने नई तरकीब इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है.

आर्थिक समस्या में हूं, अस्पताल में भर्ती हूं, इलाज के लिए पैसे चाहिए ऐसा फेसबुक मैसेंजर पर मैसेज भेजा जाता है. विभिन्न एप की मदद से पैसे की धोखाधड़ी की जाती है. बैंक अथवा एलआईसी का और अन्य किसी भी संस्था का कस्टमर केअर नंबर गूगल पर सर्च किया जाता है. इसमें कही फर्जी फोन नंबर है. इस कॉल पर कॉल करके अपनी समस्या रखने का प्रयास किया जाता है. कस्टमर केअर समझकर अपनी पूरी जानकारी दी जाती है और धोखेबाज को मौका मिल जाता है. इस तरह विविध लोग शिकार हो चुके है.

लाकडाउन में हुए कई शिकार

खास बात यह की लाकडाउन के समय में ऐसे धोखाधड़ी के मामले ज्यादा सामने आए है. बैंक खाते से राशि निकाली गई है. इसके बाद संबंधित व्यक्ति को उसके साथ धोखा होने का पता चला.

एप डाउनलोड करने से पूर्व बरतने सावधानी

एप डाउनलोड करने के पहले सावधानी बरतनी चाहिए. नहीं तो मोबाइल का एक्सेस लेकर तुम्हारे साथ धोखाधड़ी हो सकती है. मोबाइल का सिम बंद होने वाला है, वह अपडेट करना है ऐसा बता कर तुम्हारे साथ धोखाधड़ी हो सकती है. तुम्हारा ओटीपी मांगा जाता है. इसके बाद तुम्हारे बैंक से पैसे निकाले जाते हैं. एटीएम बंद हो सकता है आपने आधार लिंक किया नहीं ऐसा कहा जाता है. इसमें जानकारी मांगी जाती है. बाद में ठगों द्वारा खाते से पैसे निकाले जाते है.