नये कृषि विधेयक के विरोध में किसान हुए संतप्त

  • प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ आंदोलन
  • कंगना का प्रतिकात्मक पुतला जलाया

यवतमाल. केंद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुडे दो विधेयक संसद में पारीत किए है. इस नये विधेयक के खिलाफ किसान विधवाओं ने सोमवार 21 सितंबर को पांढरकवडा में घोषणाबाजी कर सरकार प्रति अपना रोष जताया. दोनों विधेयक वापस न लेने पर 25 सितंबर से विदर्भ में तीव्र आंदोलन छेडने की चेतावनी किसान नेता किशोर तिवारी ने दी है. किसान नेताओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने बाद सिने अभिनेत्री कंगना राणावत का प्रतिकात्मक पुतला जलाकर रोष प्रकट किया.

केंद्र सरकार द्वारा पारित इन कानूनों के खिलाफ देशभरे में भारी अका्रेश है. यह आशंका है कि ये कानून प्रकृति में वाणिज्यिक हैं और इससे किसानों की भारी लूट होगी किसान विधवा संगठन की अपर्णा मालीकर, भारती पवार, सुनीता पेंदोर, रेखा गुरुनुले, सरस्वती अम्बरवार के नेतृत्व यह आंदोलन किया गया. किसान नेता किशोर तिवारी ने विधेयक वापस न लेने पर पूरे विदर्भ आंदोलन करने की घोषणा की. किसान विधवा पवार ने केंद्र सरकार के नये कृषि विधेयक विरोध करने एवं किसान नेताओं को आतंकवादी कहनेवाली सिने अभिनेत्री कंगना राणावत की टिप्पणे के विरोध में आंदोलन किया गया. इस आंदोलन में बडी संख्या में किसान विधवाओं ने हिस्सा लिया