Farmer, Crop Damage 01

यवतमाल. राज्य सरकार ने किसानों को दिवाली के पहले प्रति हेक्टेयर 10 हजार रुपए देने का ऐलान किया, लेकिन केवल एक ही दिन शेष है. अबतक किसानों के खाते में सरकार का मुआवजा ट्रान्सफर नहीं हुआ. जिलाधिकारी ने मंगलवार को प्रशासन को आदेश देकर जल्द से जल्द किसानों के खातों में राशि ट्रान्सफर करने की कार्रवाई करने के आदेश दिए. लेकिन आज बुधवार के दिन किसानों के खाते में पैसे ट्रान्सफर नहीं हुए और एक दिन बैंक का कामकाज शुरू रहेगा. एक दिन में कार्रवाई कैसे पूरी होंगी? ऐसा सवाल किसानों को पडा है.

जिले में जिलाधिकारी ने किसानों को मुआवजा की मांग सरकार की ओर की थी. सरकार ने 50.96 खेतजमीन क्षतिग्रस्त हो गई इसलिए जिले को 1806.28 लाख मुआवजा प्राप्त हुआ. लेकिन प्रशासन की लापरवाही की वजह से किसानों के खाते में अबतक पैसा जमा नहीं किया गया. जिलास्तर पर पैसे जमा होने की प्रक्रिया शुरू हो गई. लेकिन अबतक एक भी किसान को दिवाली के पूर्व पैसा जमा होंगे, ऐसी आशा नहीं है. 

पटवारी और कृषि सहायक ने काम में किया कसूर

केवल घर में बैठकर पटवारी और कृषि सहायकों ने खेतों पर ना जाकर सिर्फ कागजों पर सर्वे किया और जो किसान बाधित हुए उन्हें लाभ से वंचित रहना पड रहा है. नालों एवं नदी के तटवर्ती के खेतों को भारी बारिश से पूरी तरह से नुकसान हुआ. पटवारी और कृषि सहायकों ने किसानों के खेतों तक नहीं पहुंचे, नुकसानबाधित किसानों के प्रशासन को आवेदन प्राप्त हुए. उनको ही पहली सूची में शामिल किया. जिन किसानों का नुकसान हुआ और उन्होंने आवेदन नहीं किया ऐसे किसानों को दिवाली के पहले मुआवजा नहीं मिल पाएगा. पटवारी और कृषि सहायक ने सीधे मुआवजे के लिए सर्वेक्षण किया. वह भी सर्वे घर बैठे ही किया. प्रशासन की लापरवाही के कारण बाधित किसान मुआवजे के लिए तरस रहें है. 

दिवाली के पूर्व मिलेगा मुआवजा

जिन किसानों ने प्रशासन को आवेदन किए और उन किसानों का खेत का पंचनामा हुआ. उन किसानों को दिवाली के पहले 50 फीसदी राशि मिलेगी और दिवाली के बाद शेष मुआवजा दिया जाएगा. सीधे मुआवजेवाले किसानों को भी दिवाली के बाद ही मदद मिलेगी. 

चोखांद्रे, पटवारी, यवतमाल

दिवाली तक मुआवजा मिलने की आशा नहीं

सरकार भले ही दिवाली के पहले मुआवजा देने की बात कर रहा हों, लेकिन मूझे नहीं लगता कि, दिवाली के पहले मुआवजा मिल पाएगा. दिवाली एक दिन पर है और बैंक को लक्ष्मीपूजन के दिन ही दूसरे शनिवार की छूट्टि है. कल धनतेरस है और आज बुधवार को मुआवजे की राशि जमा नहीं हुई. कल धनतेरस है, इसलिए हमें नहीं लगता कि, दिवाली के पूर्व मुआवजा मिल पाएगा. इसलिए हमारी आशा अब निराशा में बदल गई.

राजेंद्र पुनसे, किसान, नेर