प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    यवतमाल. कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य और केंद्र सरकारों ने अंत्योदय और प्राथमिकता समूहों के लाभार्थियों को मुफ्त खाद्यान्न देने की घोषणा की थी. इसमें मुख्यमंत्री ने गरीब कल्याण योजना के तहत अनाज का वितरण किया. साथ ही केंद्र सरकार ने जिले में अंत्योदय अन्न योजना और प्राथमिकता परिवार योजना समूह के कुल 6 लाख 50 हजार राशन कार्ड धारकों को नवंबर तक मुफ्त गेहूं और चावल उपलब्ध कराने की योजना बनाई है.

    राज्य सरकार ने अप्रैल में अंत्योदय और प्राथमिकता समूहों में लाभार्थियों को मुफ्त खाद्यान्न प्रदान किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि गरीबों को रोटी मिले. भले ही कई लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर लगाए गए तालाबंदी के कारण अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा हो. केंद्र सरकार ने भी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मई और जून में मुफ्त खाद्यान्न की घोषणा की थी. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अनाज मई और जून में बांटे गए.

    लेकिन अब केंद्र सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत नवंबर तक मुफ्त अनाज बांटेगी. इस योजना से जिले के अंत्योदय अन्न योजना एवं प्रधानमंत्री गरीब योजना के 6 लाख 50 हजार राशन कार्ड धारकों को लाभ होगा. इसके अलावा अन्य लाभार्थियों को नियमित रूप से सस्ता राशन खरीदना होगा. जुलाई माह में अनाज वितरण की योजना है. इसमें से 87 फीसदी अनाज दर्ज किया जा चुका है. आपूर्ति विभाग ने कहा कि खाद्यान्न समय पर वितरित किया जाएगा.

    समय पर मिलेगा अनाज

    प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत अंत्योदय योजना,  प्राथमिकता परिवार योजना, एपीएल, केशरी राशन कार्ड धारकों को नवंबर तक मुफ्त खाद्यान्न वितरित किया जाएगा. जुलाई माह में अनाज वितरण की योजना है. राशन दूकानों पर समय पर अनाज मिल जाएगा.

    -सुधाकर पवार, जिला आपूर्ति अधिकारी, यवतमाल