डिजिटल इंडिया को विफल बना रहीं है इंटरनेट की लिंक

आर्णी. मानव व्यवहार में पारदर्शिता लाने, केंद्र और राज्य सरकारों ने निजी और सरकारी कार्यालयों को कंप्यूटर और इंटरनेट के माध्यम से डिजिटल इंडिया के नाम पर सभी लेनदेन ऑनलाइन करने की अनुमति दी है ताकि नागरिकों का काम जल्द से जल्द पूरा हो और किसी के साथ धोखा न हो. तो सारा लेन-देन इंटरनेट के माध्यम से हो रहा है. 

लेकिन लिंक फेल के साथ कई डिजिटल कामकाज ठप हो जाते है. जिसके चलते लोगों को त्रासदी का सामना करना पड रहा है. लींक फेल होने से बैंकों, राशन की दुकानों, तहसील कार्यालय, पंचायत समिति कार्यालय, निजी बैंक, सेतू केंद्र, आधार सुविधा, कोष कार्यालय आदि कार्यालयों में काम ठप पड जाते है. लिंक फेल होने के कारण आर्णी माध्यमिक रजिस्ट्रार कार्यालय सहित शहर के विभिन्न बैंकों का लेनदेन तीन दिनों से बंद है. माध्यमिक रजिस्ट्रार के कार्यालय में बहुत भीड़ होती है क्योंकि खरीद और बिक्री जैसे लेनदेन होते हैं. सभी बिक्री लेनदेन को कम्प्यूटरीकृत किया जाना है. लेकिन चूंकि इंटरनेट लिंक काम नहीं कर रहा है, जिससे नागरिकों को त्रासदी का सामना करना पड रहा है. 

एक ओर डिजिटल इंडिया को लिंक फेल की वजह से बडा खामियाजा भुगतना पड रहा है. सस्ते दाम रेशन के दुकानदारों को दिए गए ई-पॉस मशीन में भी लिंकफेल जैसे ही समस्याएं पैदा होती हैं, उपभोक्ताओं को अनाज खरीदने के लिए लिंक आने तक इंतजार करना पड़ता है. एक बैंक में, लिंक विफलता के कारण ग्राहकों को घंण्टों इंतजार में बैठना पड़ता है. तहसील कार्यालय में सेतु केंद्र में लिंकफेल की समस्या भी पैदा हो रही है. द्वितीयक रजिस्ट्रार कार्यालय में होने वाली बिक्री और खरीद का लेनदेन लिंक फेल से प्रभावित हो गया है. लिंक फेल होने से ग्राहकों को घंटो इंतजार करना पड़ता है और समय बर्बाद होता है. नतीजतन, नागरिकों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है. डिजिटल इंडिया विफल बना रहीं है इंटरनेट की लिंक, ऐसी विविध स्तरों पर चर्चा है.