किशोर तिवारी को खेती स्वावलंबन मिशन से हटाए

  • महाराष्ट्र प्रदेश किसान कांग्रेस की मांग,

यवतमाल. किसी भी समस्या के लिए किसान मुझसे संपर्क करें ऐसा संदेश व्हाट्सएप पर से किशोर तिवारी ने दिया था. तिवारीं के इस आह्वान से बाभूलगाव तहसील के एक वैफल्यग्रस्त किसान ने रखी कैफियत की धज्जीयां उडी है.इस तरह से सलाह देनेवाले किशोर तिवारी को तुरंत कै.वसंतराव नाईक खेती स्वावलंबन मिशन के  अध्यक्ष पद से हटाए ऐसी मांग महाराष्ट्र प्रदेश किसान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष देवानंद पवार ने की है. प्रमुखता से  विदर्भ और मराठवाडा के किसान आत्महत्याग्रस्त 14 जिलों के लिए कै.वसंतराव नाईक खेती स्वावलंबन मिशन की नर्मितिि की गई है. संघ परिवार के छाए में रह चुके किशोर तिवारी को तत्कालीन भाजप सरकार ने मिशन के अध्यक्ष पद पर नियुक्त किया. सच बात यह है कि तिवारी को किसानों की समस्याओं से कुछ लेना देना ही, केवल मीडिया के माध्यम से  नर्मिाण हुए वे फर्जी किसान नेता होने का आरोप पवार द्वारा किया गया है.

एकओर किसानों को व्हाट्सएप और फेसबुक पर से समस्याओं के लिए संपर्क करने का आह्वान किया जा रहा है और दुसरी ओर सहायता करने के बजाय उलटी सलाह देना तिवारी का स्वभाव होने की बात देवानंद पवार ने प्रेस वज्ञिप्ती में ही है. बाभूलगाव तहसील के  कृष्णापूर निवासी निलेश झामरे इस किसान ने 5 एकड खेती में ईगल कंपनी के बुआई किए बीज अंकुरीत नही हुए, दुबार बुआई की व्यवस्था नही होने से मन में आत्महत्या का विचार आने की बात उन्होने तिवारी से कही थी. तब तिवारी ने इस बात को गंभीरता से नही लिया, तिवारी ने इस किसान को संघर्ष करने का, तालुका कृषी अधिकारी, विधायकर, क्वारंटाइन हुए नेताओं से मिलने की सलाही दी, जिससे यह किसान परेशान हो गया.

इससे पहले भी  किशोर तिवारी ने घाटंजी तहसील के जरंग निवासी  अर्जुन चव्हाण नामक किसान के साथ ऐसाही व्यवहार किया था. कपास बक्रिी संबधी समस्या रखनेवाले किसान  चव्हाण पर तिवारी ने शेरेबाजी की थी. खेती  स्वावलंबन मिशन के  अध्यक्ष है इसलिए किसान उनसे संपर्क करते है, लेकिन तिवारी किसानों की समस्याओं का मजाक बनाते है ऐसा भी पवार ने बताया.अपने पद की गरीमा दिखाकर वे कईबार कार्यकक्षा के बाहर जाकर अधिकारी और कर्मियों को डाटते है, इसलिए मुख्यमंत्री इस बात को गंभीरता से लेकर तिवारी को  मिशन की अध्यक्ष पद से हटाए ऐसी मांग देवानंद पवार ने की है.