जिलाधिकारी की अध्यक्षता में पगडंडी रोड पर बैठक

यवतमाल. पगडंडी रोड योजना के तहत जिलास्तरीय कार्यकारी समिति की समीक्षा बैठक जिलाधिकारी एम. देवेंदर सिंह की अध्यक्षता में ली गई. इस समय जिप मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. श्रीकृष्ण पांचाल, उपजिलाधिकारी (रोहयो) संगीता राठोड, जिला‍ नियोजन अधिकारी मुरलीनाथ वाडेकर, पुसद के एकात्मिक आदिवासी विभाग के प्रकल्प अधिकारी आत्माराम धाबे उपस्थित थे.

बैठक के दौरान, पगडंडी मार्ग पार्टी-बी के तहत प्रारंभिक चरण में 1500 कार्य करने के निर्देश दिए गए. इस योजना के तहत उपयोग किए जाने वाले धन के स्त्रोत पर भी चर्चा की गई. संबंधित मार्ग के लिए धन के स्त्रोतों का प्रस्ताव व जिला स्तर पर प्रस्तूत किए कृति प्रारूप के तहत मंजूर मार्ग संबंधित ग्रामपंचायत के प्रस्ताव जिलास्तर पर उपविभागीय अधिकारी को प्रस्तूत करें तथा जनभागीदार के तहत काम किया जाना चाहिए, इस तरह के निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिए गए.

इस समय पार्ट-बी सडक के 1500 कार्यों के लिए आवश्यक धन पर चर्चा की गई. इनमें सार्वजनिक सुविधाओं के लिए ग्रामपंचायत को अनुदान, नागरिक सुविधाओं के लिए बडी ग्रामपंचायतों को विशेष अनुदान, जिला खनिज फाउंडेशन फंड, ग्राम पंचायतों को भूमि राजस्व अनुदान, जिला परिषद-पंचायत समिति उपकर उपलब्ध होनेवाला धन, ग्रामपंचायतों की स्वयं-आय, अनुसूचित क्षेत्रों में पेसा के तहत उपलब्ध होनेवाली धनराशि शामिल हैं. ठक्कर बाप्पा आदिवासी बस्ती सुधार कार्यक्रम (आदिवासी उपाययोजना गांव के लिए) आदि विषय शामिल थे. बैठक में बताया गया कि, आचार संहिता को अंतिम रूप देते ही जिले में पगडंडी सडकों के काम शुरू हो जाएगा.

इस समय, उप अधीक्षक भूमि अभिलेख के उपअधीक्षक वाई. पी. चव्हाण, जि.प. निर्माण विभाग क्र. 1 व क्र. 2 चे कार्यकारी अभियंता आर. एन. सुरकर और पी. एस. भांगे तथा सभी उपविभागीय अधिकारी मौजूद थे.