महाज्योति बचाओ कृति समिति का ढोल बजाओ आंदोलन

वणी. ओबीसी व भटकी विमुक्त जनजाति को न्याय दिलाने के लिए मंगलवार को महाज्योति बचाओ कृति समिति की ओर से विभागीय समाज कल्याण तथा महाज्योति कार्यालय के सामने ढोल बजाओ आंदोलन किया गया. सरकार ने मराठा व सारथी के लिए निधि मंजूर की. उसी तर्ज पर महाज्योति संस्था के लिए निधि मंजूर करने के लिए ढोल बजाकर सरकार का ध्यान आकर्षित किया गया.

राज्य मे भटकी विमुक्त जनजाति की जनसंख्या तकरीबन 1 करोड 30 लाख है. जनसंख्या के अनुपात मे महाज्योति को 2500 करोड निधि मंजूर व भटकी विमुक्त जनजाति को महाज्योति मे प्रतिनिधित्व शिक्षा शुल्क छात्रवृत्ति के लिए 1200 करोड, छात्रावास निर्वाह भत्ते के लिए 160 करोड , भटकी विमुक्त , बारह बलुतेदारो को क्रिमिलेयर की शर्त से मुक्ति ओबीसी की जातिनिहाय जनगणना की जाए. 

बार्टी की योजनाओ की तर्ज पर सभी योजना, प्रशिक्षण व फेलोशिप लागू की जाए 25 सितंबर 2020 के आदेश पर धनगर समाज के लिए लागू योजना महाज्योति के सभी घटको को लागू करने स्पर्धा परीक्षा मार्गदर्शन, स्वरोजगार प्रशिक्षण , रोजगार के लिए आर्थिक निधि उपलब्ध कराने , डॉ.बाबासाहब आंबेडकर मैट्रिक पूर्व छात्रवृत्ति योजना को गति देकर शैक्षणिक सत्र 2020-2021 के लिए लाभ देने की मांग की गई. इस अवसर परमहाज्योती बचाव कृती समिती के गजानन चंदावार, प्रदीप बोनगीरवार, मोहन हरडे, राम मुडे, राकेश बुग्गेवार, विनोद राऊत, राकेश बरशेट्टीवार,अमोल मसेवार, ज्ञानेश्वर बोनगीरवार, विनोद महाजनवार, विशाल बोरकूटवार, विवेक ठाकरे आदि उपस्थित थे.