ढाणकी शहर में आईटीआई  प्रशिक्षण केंद्र की आवश्यकता

ढाणकी. प्रतिबंधित क्षेत्रों और पैनगंगा अभयारण्य में माध्यमिक शिक्षा का पीछा करने वाले कई छात्रों को व्यवसाय और प्रशिक्षण केंद्रों की आवश्यकता होती है. कई छात्रों को उमरखेड आईटीआई में अपर्याप्त प्रवेश क्षमता के कारण आईटीआई से वंचित रहना पड़ रहा है. ढाणकी शहर में आईटीआई केंद्र साकार करने से यहां के छात्रों का सपना पूरा होगा, जिससे ढाणकी में आईटीआई केंद्र साकार करने की मांग अब जोर पकड़ रही है.

उमरखेड तहसील की ढाणकी तहसील सबसे बड़ा बाजार है. वन क्षेत्र और पैनगंगा अभयारण्य के छात्र शिक्षा के लिए यहां आते हैं. ढाणकी, उमरखेड से 18 किमी की दूरी पर है. उमरखेड तहसील का कुल क्षेत्रफल अधिक होने से खरबी से उमरखेड की दूरी 60 किमी. की होने से यहां के विद्यार्थी पढ़ाई के लिए 60 किमी. की दूरी पार करते है़ ढाणकी में परिसर के माध्यमिक विद्यालय बिटरगांव, जेवली, थेरड़ी, अकोली, ब्राम्हणगांव, कुरली, कोरटा, भवानी, निंगणुर इन गांवों में कक्षा 10वीं तक की शिक्षा ले चुके छात्रों को उमरखेड के आईटीआई केंद्र में प्रवेश लेने से वंचित रहना पड रहा है. इसके समाधान के रूप में छात्रों से ढाणकी जैसे शहरों में सरकारी आईटीआई स्थापित करने की मांग है.

ढाणकी परिसर क्षेत्र का सर्वे कर विद्यार्थियों से चर्चा कर इस क्षेत्र में सरकारी आईटीआई केंद्र साकार करने के लिए जनप्रतिनिधियों ने ध्यान देकर सरकारी आईटीआई केंद्र ढाणकी शहर में कार्यान्वित करने के लिए तत्काल उपाययोजना की जाए, ऐसी मांग क्षेत्र के विद्यार्थियों की ओर से उठ रही है. ढाणकी शहर में बंद पड़े सरकारी दूध केंद्र के भवन में आईटीआई प्रशिक्षण शुरू करने पर भवन के निर्माण का खर्च भी बचेगा और विद्यार्थियों को सुविधा भी होगी.