corona

  • हिवरा संगम में 3 दिनों का जनता कर्फ्यू

महागांव. महागांव तहसील के हिवरा संगम में कोरोना प्रभावित मरीजों की बढ़ती संख्या के बाद आपदा व्यवस्थापन समिति की ओर से 3 दिनों के जनता कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया गया है. हिवरा (संगम), आनंदनगर,(अनंतवाड़ी) सेवानगर (कासारबेहल) में कोरोना मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग ने मरीजों के संपर्क में आए नागरिकों की जांच करने पर बाधित मरीजों की संख्या बढ़ने से जिला प्रशासन ने कोरोना प्रभावितों की संख्या ध्यान में लेकर इलाके प्रतिबंधित जोन के तौर पर घोषित किए है.

हिवरा गांव में कोरोना मरीजों की संख्या 16 पर पहुंच गई है. जिससे वार्ड क्रमांक को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित किया गया है. स्थानीय आपदा व्यवस्थापन समिति ने कोरोना विषाणु को रोकने 12 मार्च से 14 मार्च इन 3 दिनों तक जनता कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है.

व्यापारियों से सहयोग का आह्वान

व्यापारियों ने अपनी दूकाने बंद रखकर और नागरिक सरकार के निर्देशों का पालन कर प्रशासन को सहयोग करने के निर्देश दिए गए है. कंटेनमेंट जोन के सभी नागरिकों की कोरोना जांच करने और गांव में भीड़ वाले स्थान जहां पर दूकानें हैं, उन सभी व्यापारियों को अपनी कोरोना जांच करवाना अनिवार्य किया गया हैं, ऐसी जानकारी तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डा.जब्बार पठाण ने  दी है.

नियोजन का अभाव

जिला प्रशासन ने वार्ड क्रमांक 2 को प्रतिबंधीत क्षेत्र घोषित किया है. गांव के अनेक छोटी बड़ी दूकानें उसी तरह फेरीवालों की दूकानें भी वार्ड 2 में हैं, प्रतिबंधित क्षेत्र में दूकानें न खुली, इस संदर्भ में स्थानीय आपदा व्यवस्थापन समिति ने आपदा व्यवस्थापन समिति ने इन व्यवसायियों को कोई जानकारी नहीं दी. 3 दिनों तक मार्केट बंद होने से आज सब्जी, फल विक्रेता, होटल व्यवसायिकों ने अपनी दूकानें खुली रखकर व्यापार की शुरुआत की.

इस दौरान शिवरात्रि के लिए खरीदी करने नागरिक घरों से बाहर निकले, किंतु समिति ने गांव की सभी दूकानें केवल 3 बजे खुली रहेगी. ऐसी बात समय पर बताई, कुछ देर बाद फिर से आपदा व्यवस्थापन समिति पदाधिकारियों ने गांव में घूमकर दूकानें तत्काल बंद करने की बात कही, जिससे इस समिति के नियोजन शून्य कामकाज से अनेक छोटे व्यापारियों कों आर्थिक नुकसान सहना पड़ा.