st-bus-depot
File Photo

    शेंबालपिपंरी. केंद्र सरकार ने कोविड संक्रमण की रोकथाम हेतु अपने स्तर पर प्रतिबंध लगाने का अधिकार राज्यों को प्रदान किया है और कुछ दिशा-निर्देश भी दिए गए हैं. कुछ राज्यों में कोविड वायरस के फैलने और कइयों की मौते हुई हैं. नतीजतन, विभिन्न राज्य अपने-अपने स्तर पर प्रतिबंध और तालाबंदी कर रहे हैं. महाराष्ट्र उन पांच या छह राज्यों में से एक है, जहां कोविड की घटनाओं में वृद्धि हुई है. सरकार अपने जिले में कोविड के प्रसार को रोकने के लिए काम कर रही है.

    यात्रियों को रही परेशानी

    उल्लेखनीय है कि नांदेड़, परभणी, जिलाधिकारी ने जिले में कर्फ्यू लगा दिया है और चूंकि शेंबालपिपंरी गांव मराठवाड़ा का केंद्र बिंदु है. विदर्भ से मराठवाड़ा तक बस सेवा और लंबी बसें चलती हैं. नागपुर-अंबेजोगाई, बीड़, नांदेड़, परभणी, पुणे, मुंबई, माहुर जैसी बसें चलती हैं. शेंबालपिपंरी से यात्री मराठवाड़ा में किसी भी स्थान की यात्रा कर सकता है, जबकि मराठवाड़ा से यात्री उमरखेड़, हदगांव, पुसद, माहुर, वाशिम, अमरावती, नागपुर, चंद्रपुर की लिए बसें दौड़ती हैं, लेकिन नांदेड़ और परभणी जिलों में कर्फ्यू के कारण एसटी यात्री बसों और अन्य वाहनों से फंसे हुए हैं और रात में बसों या अन्य वाहनों की कमी के कारण महिला यात्रियों और बच्चों को बहुत नुकसान उठाना पड़ता है. दिन के समय परभणी, नांदेड़ तक पहुंचना मुश्किल हो गया है, चूंकि बस शेड्यूल में देरी के कारण कोई भी बस समय पर नहीं आती है, इसलिए जनता की प्रतिक्रियाएं होती हैं कि यात्री पीड़ित हैं.