स्वीकृत घरकुल परिवार की पूरी राशि का भुगतान करें – पवार,  अतिक्रमणकारियों को पट्टे वितरित करें

    घाटंजी. प्रधान मंत्री आवास योजना ‘सभी के लिए घर 2022’ के तहत केंद्र और राज्य सरकारों ने 2022 तक बेघरों को घर उपलब्ध कराने के लिए एक महत्वाकांक्षी अभियान चलाया है. इसे लेकर आदेश भी जारी किया हैं. जिसमें अतिक्रमण करने वाला अहम कारक है. घाटंजी नगर परिषद ने 2011 से पहले से क्षेत्र में रहने वाले अतिक्रमणकारियों को पट्टे आवंटित नहीं किए हैं. बावजूद उनके पास अपना घर नहीं है. महेश पवार ने उक्त लोगों को तुरंत पट्टे प्रदान करने की मांग की है.

    घाटंजी के हालात पर नजर डाले तो करीब 1,500 लाभार्थियों को किराये का मकान नहीं मिला है. बेशक उनसे टैक्स वसूला जा रहा है. यह सभी अतिक्रमणकारी उक्त योजना के लाभार्थी हैं, किंतु फिर भी उनसे इस योजना में नगर परिषद द्वारा किसी भी आवेदन प्रक्रिया के बारे में नहीं पूछा गया है. इस योजना की अवधि 2022 तक निर्धारित की गई है. 2021 के मध्य में होने पर भी उन्हें लाभार्थी के रूप में कोई सुविधा क्यों नहीं मिलती है? इसलिए इस मामले की गंभीरता को देखते हुए हितग्राहियों ने उपमंडल अधिकारी केलापुर को तहसीलदार पूजा माटोले के माध्यम से ज्ञापन दिया है की तत्काल कार्रवाई की जाए. 

    मंजूरी के बाद भी घरकुल पूरी राशि नहीं मिली

    साथ ही जिन लोगों को 2 लाख 60 हजार रुपये का मकान स्वीकृत हुआ था, उन्हें अब तक सिर्फ 1 लाख रुपये मिले हैं. शेष राशि अभी तक नहीं मिली है. महेश पवार ने एक ज्ञापन में यह भी कहा कि उन्हें जल्द से जल्द मिलनी चाहिए. प्रधानमंत्री आवास योजना उन लोगों के लिए फ्लैट सिस्टम में घरकुल के निर्माण का प्रावधान करती है. नगर परिषद ने इस संबंध में कोई कदम नहीं उठाया है. पवार ने अनुरोध किया है कि इस मुद्दे को जल्द से जल्द सुलझाया जाए. इस समय धीरज भोयर, अमोल बावने, मारुति नखाते, विट्ठल शेंद्रे, माधव कापड़े, धर्मा वेट्टी, विष्णु शिंदे, सूर्यभान नखाते, सुभाष ठाकरे, रुकसाना बी, कविता लोनारे, अनीता लोहकरे, परवीन पठान, सुमन ढोके, नसरीन शेख, माया मंत्रीवार, नजमा शेख, कल्पना चौरागड़े, हुसेना बानो अहमद खान, कुंदन उईके मौजूद थे.