Garbage,

    आर्णी. आर्णी नगर परिषद हमेशा किसी न किसी वजह से चर्चा में रहती है. लाभवाले के काम को प्राथमिकता देने वाली नगर परिषद नागरिकों की असुविधाओं को नजरअंदाज करती नजर आ रही है. वर्तमान में बारिश का मौसम शुरू होने के कारण राज्य के कई हिस्सों में सड़कों पर पानी भर गया है. सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया है, किंतु नगर परिषद के पास उन सड़कों पर एक साधारण मटेरियल डालने का भी समय नहीं है. 

    वाहनों की मरम्मत नहीं होने से समस्या

    शहर में पानी की आपूर्ति सुचारू रूप से नहीं होने से नागरिकों को काफी परेशानी हो रही है. इसके साथ ही आर्णी शहर में वार्ड में नियमित कचरा ट्रक नहीं आने से शहर में कई जगह कूड़े के ढेर लगे हैं. घर में 4/5 दिन की देरी से कूड़ा उठाने से घर की महिलाएं नाराज हैं. इसका असर नागरिकों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है.

    नगर परिषद नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. आर्णी शहर में कुल 7 कचरा ट्रक हैं. जिनमें से 5 वाहन शहर में कचरा संग्रहण के लिए उपयोग किए जाते हैं. वहीं 2 वाहन गत 6 से 7 महिनों से कुछ खराबी के कारण बंद पड़े है, कितु तस्वीर यह है कि स्वास्थ्य विभाग को पिछले 6/7 महीने से 2 वाहनों की मरम्मत का मौका ही नहीं मिल रहा है.

    मुख्याधिकारी से की ध्यान देने की मांग

    नियमित कचरा ट्रक शहर में नहीं आते हैं. कचरा गाड़ी वाहन चालकों को पूछने पर वह सीधे मुंह जवाब नहीं देते. कचरा गाड़ी चालकों के व्यवहार से लोग खासे परेशान है. इसे लेकर मुख्याधिकारी से मांग की गई है कि वह इस ओर ध्यान देकर समस्याओं का समाधान करें. अब इन कर्मचारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई की जाती है. इस पर लोगों की नजरें टिकी हुई हैं.